Maharashtra assembly election- दहिसर की सीट पर शिवसेना और बीजेपी मे से कौन मारेगा बाजी?

दहिसर की सीट से मौजूदा विधायक बीजेपी की मनीषा चौधरी है जिन्होने शिवसेना के विनोद घोषालकर को हराया था

SHARE

राज्य में होनेवाले विधानसभा चुनाव के लिए सभी राजनीतिक पार्टियों ने तैयारी कर ली है।  जहां एक ओर बीजेपी और शिवसेना ,दोनों ही पार्टियों ने अपने अपने स्तर पर रणनीति बनाने में जुट गई है तो वही दूसरी ओर कांग्रेस और एनसीपी में भी सीटों का बंटवारा लगभग तय दिख रहा है। बीजेपी और शिवसेना में अभी तक सीटों को लेकर कोई भी सहमति नहीं बनी है। दोनों ही पार्टियों में  एनसीपी और कांग्रेस छोड़कर शामिल होनेवाले नेताओं की संख्या बढ़ती जा रही है ऐसे में जिस बात पर सबकी नजर है वह है बीजेपी और शिवसेना में सीट बंटवारे को लेकर। ऐसी ही एक सीट है मुंबई की दहिसर , जहां पर साल 2014 के पहले शिवसेना के विनोद घोषालकर विधायक थे और साल 2014 में बीजेपी की मनीषा चौधरी ने विनोद घोषालकर को हराया था।

क्या है दहिसर का गणित

दहिसर में मराठी , गुजराती और उत्तर भारतीय समुदाय की अच्छी संख्या है।  इस विधानसभा को साल 2009 में बनाया गया था।  2009 में हुए विधानसभा चुनाव में शिवसेना के विनोद घोषालकर ने इस विधानसभा से जीत दर्ज की थी। तब शिवसेना और बीजेपी ने साथ मिलकर चुनाव लड़ा था।  लेकिन साल 2014 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी की मनीषा चौधरी ने विनोद घोषालकर को हराया। 2014 में शिवसेना और बीजेपी ने अलग अलग विधानसभा चुनाव लड़ा था।  

दहिसर में शिवसेना के ज्यादा नगरसेवक

साल 2017 में हुए बीएमसी नगरसेवक चुनाव में इस विधानसभा में शिवसेना का पल्ला  भारी दिखा।  इस विधानसभा में शिवसेना के 6 नगरसेवक है और बीजेपी के 2 नगरसेवक है। लिहाजा इस सीट पर शिवसेना एक बार फिर से अपना दावा पेश कर सकती है। 

कांग्रेस का जनाधार कम

दहिसर विधानसभा में कांग्रेस को खास दबदबा नहीं दिखता है। कांग्रेस की शीतल म्हात्रे को 2014 के विधानसभा चुनाव में लगभग 13 फिसदी वोट मिले थे। हालांकी साल 2017 में हुए बीएमसी चुनाव में वह हार गई थी। फिलहाल कांग्रेस इस सीट किसी नए चेहरे को इस बार टिकट दे सकती है।  कांग्रेस के इस लिस्ट में डॉ. किशोर सिंह का नाम आगे बताया जा रहा है।  

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें

Maharashtra assembly election- दहिसर की सीट पर शिवसेना और बीजेपी मे से कौन मारेगा बाजी?
00:00
00:00