चूहा घोटाला हुआ ही नहीं- चंद्रकांत पाटील

एकनाथ खड़से के चुहे घोटाला प्रकरण को उजागर करने के बाद राज्य सरकार की अच्छी खासी फजीहत हो रही है।

SHARE

चुहे मारने का विषय राज्य सरकार की गली की हड्डी बनता जा रहा है। अब राज्य सरकार के निर्माण विभाग ने जिस संस्था को ये काम दिया है उसकी पूरी जानकारी मांगने का कार्य किया है। निर्माण मंत्री चंद्रकांत पाटील ने विधानसभा में कहा कि राज्य के सहकारी विभाग को यह पत्र दिया गया है ताकि वह संगठन के अस्तित्व के बारे में पता कर सके।

एकनाथ खड़से के चुहे घोटाला प्रकरण को उजागर करने के बाद राज्य सरकार की अच्छी खासी फजीहत हो रही है। अब राज्य सरकार इस मामले को रफा दफा करने का प्रयास कर रही है। निर्माण मंत्री चंद्रकांत पाटील विधानसभा में एक निवेदन किया है और इसके साथ यह भी बताया था की ये चुहे मारने का नहीं बल्की चुहे की प्रजाति को रोकने के लिए था।

इसके साथ ही चंद्रकांत पाटील ने कहा की चुहा मारने का कोई घोटाला हुआ ही नहीं , 3,19,400 ये चुहों की संख्या नहीं बल्की चुहों की प्रजाती को रोकने के लिए गोलियों की संख्या है। 3,19,400 गोलियों को 4,79,100 रु.में खरीदी। मुंबई जिल्हा बैंक में चुहे को मारनेवाली संस्था के पैसे जमा कराये गए है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें