Advertisement
COVID-19 CASES IN MAHARASHTRA
Total:
52,69,292
Recovered:
46,54,731
Deaths:
78,857
LATEST COVID-19 INFORMATION  →

Active Cases
Cases in last 1 day
Mumbai
38,649
1,946
Maharashtra
5,33,294
42,582

कोरोना के मरीजों के लिए अस्पताल पड़ रहे हैं कम, BMC ने इन फेमस जगहों पर बना रही है सेंटर

महालक्ष्मी रेसकोर्स पार्किंग स्पेस से लेकर वर्ली के NSCI डोम स्टेडियम, प्रसिद्ध नेहरू साइंस सेंटर तक को Covid-19 फैसिलिटी में तब्दील किया जा रहा है।

कोरोना के मरीजों के लिए अस्पताल पड़ रहे हैं कम, BMC ने इन फेमस जगहों पर बना रही है सेंटर
SHARES

महाराष्ट् सहित मुंबई में भी कोरोना के मामलों में लगातार वृद्धि हो रही है। देश भर में महाराष्ट्र जहां इस बीमारी से प्रभावित राज्यों में टॉप पर है तो वहीं महाराष्ट्र में मुंबई शहर सबसे अधिक प्रभावित है। मुंबई में तो कोरोना वायरस केसों का आंकड़ा 10 हजार को पार कर चुका है। बीएमसी का अनुमान है कि सबसे खराब स्थिति में यह आंकड़ा 80 हजार तक जा सकता है।

हिंदी समाचार चैनल आज तक की रिपोर्ट के अनुसार लगातार बढ़ते हुए केस को देखते हुए अब मुंबई में इतनी बड़ी संख्या में मरीजों के लिए अस्पताल ही मौजूद नहीं हैं। इसलिए अब बढ़ते हुए मरीजों को समायोजित करने के लिए BMC खुली जगहों में अस्पतालों और क्वारनटीन सुविधाओं का निर्माण कर रही है।

महालक्ष्मी रेसकोर्स पार्किंग स्पेस से लेकर वर्ली के NSCI डोम स्टेडियम, प्रसिद्ध नेहरू साइंस सेंटर तक को Covid-19 फैसिलिटी में तब्दील किया जा रहा है। आइए देखते हैं कहाँ कैसी स्थिती है।

1. महालक्ष्मी रेसकोर्स पार्किंग स्पेस

महालक्ष्मी रेसकोर्स पार्किंग स्पेस में 325 बेड का क्वारंटाइन सेंटर बनाया जा रहा है। बताया जा रहा है कि यह सेंटर मात्र 6 दिन में बन कर तैयार हो जाएगा। यही नहीं एक हफ्ते में इसका इस्तेमाल मरीजों के लिए किया जाने लगेगा। टॉयलेट्स के अलावा यहां कूलरकी भी व्यवस्था होगी।

2. NSCI डोम स्टेडियम, वर्ली

वर्ली स्थित डोम स्टेडियम में 600 बीएड होंगें साथ ही यहाँ ICU की भी सुविधा होगी। इस स्टेडियम में कई बड़े बड़े कार्यक्रमों का आयोजन हो चुका है।

3. नेहरू साइंस सेंटर

नेहरू साइंस सेंटर में 100 बेडो वाले क्षमता का Covid-19 मरीजों के लिए आइसोलेशन वार्ड बनाया जाएगा।

बीएमसी इंजीनियर अमित सोनवणे ने बताया कि लगभग सभी काम 6 दिनों में पूरा हो जाएगा। इनके बन जाने से अस्पताल में मरीजों का बोझ काफी हद तक कम जो जाएगा।

Read this story in मराठी
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें