Advertisement

'जिन्ना हाउस पर पाकिस्तान का दावा बेबुनियाद'

पाकिस्तान ने इसे अपने कायदे आजम का घर बताते हुए उसे सौंपने की मांग की थी। वह उसमें अपना वाणिज्य दूतावास खोलना चाहता था।

'जिन्ना हाउस पर पाकिस्तान का दावा बेबुनियाद'
SHARES

मुंबई स्थित जिन्ना हाउस पर पकिस्तान द्वारा दावा जताने के बाद भारत ने कड़े शब्दों में उसके दावे को खरीद करते हुए कहा कि पकिस्तान पहले अपने अंदरूनी समस्याओं को सुलझाएं, यह भारत सरकार की संपत्ति है और हम उसका नवीनीकरण का काम शुरू करने जा रहे हैं। आपको बता दें कि पाकिस्तान ने इसे अपने कायदे आजम का घर बताते हुए उसे सौंपने की मांग की थी। वह उसमें अपना वाणिज्य दूतावास खोलना चाहता था।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि जिन्ना हाउस पर पाकिस्तान का कोई दावा ही नहीं बनता, क्योंकि यह भारत सरकार की संपत्ति है। उन्होंने आगे कहा कि सरकार दिल्ली के हैदराबाद हाउस की तर्ज पर जिन्ना हाउस का भी इस्तेमाल करना चाहती है। आपको बता दें कि हैदराबाद हाउस का इस्तेमाल विदेशी प्रतिनिधि मंडलों के साथ द्विपक्षीय बातचीत और उनके सम्मान में भोज या मीटिंग सहित आदि के कार्यों के लिए किया जाता है। 

इसके पहले पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने बयान देते हुए मुंबई स्थित जिन्ना हाउस पर पाकिस्तान का दावा जताया था. फैसल ने कहा था कि जिन्ना हाउस को भारत अपने नियंत्रण में नहीं ले सकता क्योंकि जिन्ना हाउस भारत का नहीं पकिस्तान का है.

जिन्ना हाउस का निर्माण  पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना ने साल 1930 में  मुंबई के मालाबार हिल पर  कराया था। यूरोपीय शैली में बनी यह इमारत फिलहाल कई वर्षों से खाली पड़ी है। 

गौरतलब है कि पाकिस्तान का यह दावा उस समय आया जब विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भाजपा विधायक मंगल प्रभात लोढ़ा द्वारा पूछे गये एक प्रश्न का जवाब देते हुए कहा था कि सरकार जिन्ना हाउस का नवीनीकरण कराने की प्रक्रिया में है।

पढ़ें: जिन्ना हाउस को बनाया जाएगा इंटरनैशनल सेंटर

संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें