Advertisement

महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने पतंजलि दवा के विज्ञापन पर प्रतिबंध लगाने के कदम का किया स्वागत

अनिल देशमुख ने ट्वीट करते हुए लिखा, बिना क्लिनिकल ट्रायल, सैंपल साइज डिटेल के के साथ पंजीकरण स्वीकार्य नहीं किया जा सकता है। यह बहुत अच्छी बात है कि इस तरह के विज्ञापन को आयुष ने प्रतिबंध लगा दिया है।

महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने पतंजलि दवा के विज्ञापन पर प्रतिबंध लगाने के कदम का किया स्वागत
SHARES

योग गुरु बाबा रामदेव और पतंजलि कोराना वायरस की दवा लॉन्च करने के बाद से सुर्खियों में बना हुआ है। योग गुरु रामदेव ने दावा किया कि कोविॉ-19 के लिए आयुर्वेदिक दवा तीन दिनों में 69 प्रतिशत रोगियों को ठीक करने में सफल रही, जबकि सात दिनों में 100 प्रतिशत रोगियों को ठीक किया गया।

आयुर्वेद, योग और प्राकृतिक चिकित्सा, यूनानी, सिद्ध और होम्योपैथी (आयुष) ने पतंजलि को उत्पादों के लिए विज्ञापन बंद करने का आदेश दिया और दवा का विवरण मांगा उनका कहना है कि दवा पहले मंत्रालय को आनी चाहिए।

इस बीच, महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने पतंजलि दवा के विज्ञापन पर प्रतिबंध लगाने के लिए आयुष मंत्रालय के कदम का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि नैदानिक परीक्षणों को साझा किए बिना कोरोनावायरस के इलाज के दावे, नमूना आकार विवरण स्वीकार्य नहीं हो सकते।

देशमुख ने जोर देकर कहा कि सार्वजनिक स्वास्थ्य के साथ कोई समझौता नहीं किया जा सकता , जो दवा COVID-19 को ठीक करने का दावा करती है, उसे पहले अधिकारियों के साथ पंजीकृत होना चाहिए।

अनिल देशमुख ने ट्वीट करते हुए लिखा, बिना क्लिनिकल ट्रायल, सैंपल साइज डिटेल के के साथ पंजीकरण स्वीकार्य नहीं किया जा सकता है। यह बहुत अच्छी बात है कि इस तरह के विज्ञापन को आयुष ने प्रतिबंध लगा दिया है। सार्वजनिक स्वास्थ्य और भलाई के साथ कोई समझौता नहीं होना चाहिए। 

पतंजलि ने जो दवा कोरोना के लिए दवा बनाई है उसे कोरोनिल नाम दिया है, उनका दावा किया है कि कोरोन वायरस से पीड़ित रोगियों की रिपोर्ट केवल सात दिनों में नकारात्मक हो जाएगी।

कोरोना वायरस की यह कोरोनिल नामक दवा एक आयुर्वेदिक दवा है। इस दवा में सिर्फ देसी सामान मिलाया गया है। इस दवा को मुलैठी, गिलोय, अश्वगंधा, तुलसी, श्वासारि आदि की मदद से तैयार किया गया है।

Read this story in English
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें