शरद पवार की सुरक्षा में कमी? नहीं आ रहे सुरक्षा गार्ड

माजिद मेमन ने एनसीपी मुखिया शरद पवार को इसलिए सबसे सॉफ्ट टार्गेट बताया।

SHARE

एनसीपी सांसद माजिद मेमन ने केंद्र सरकार पर देश के महत्तवपूर्ण नेताओं की सुरक्षा को कम करने के लिए केंद्र सरकार पर निशाना साधा है।   माजिद मेमन ने एनसीपी मुखिया शरद पवार को इसलिए सबसे सॉफ्ट टार्गेट बताया।  मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक एनसीपी चीफ शरद पवार की सुरक्षा में कमी की गई है। शरद पवार को z कैटेगरी की सुरक्षा मिली है लेकिन  कुछ दिनों  से उनके कुछ सुरक्षा गार्ड नहीं आ रहे है।

आपको बता दे की राज्य में शिवसेना कांग्रेस और एनसीपी की महाविकास आघाड़ी सरकार को बनाने में एनसीपी चीफ शरद पवार का काफी अहम योगदान रहा है। शरद पवार ने ही शिवसेना के साथ आने के लिए कांग्रेस को राजी किया था। इसके साथ ही उद्धव ठाकरे को मुख्यमंत्री बनाने के लिए भी उनका नाम शरद पवार ने ही सामने लाया था।  शरद पवार को महाविकास अघाड़ी का सबसे मुख्य नेता माना जाता है।  एनसीपी नेताओं का आरोप है की शरद पवार पर राजनीतिक दुर्भावना के तहत ही केंद्र सरकार ने उनकी सुरक्षा में कमी की है।  

अल्पसंख्यको ने बीजेपी को नहीं दिया वोट

मुंबई में NCP चीफ शरद पवार ने ने पार्टी की अल्पसंख्यक इकाई की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि " चुनाव परिणाम आने के कई दिन बाद भी जब बीजेपी और शिवसेना के बीच सरकार गठन के मुद्दे पर कोई सहमति नहीं बन पाई, तब शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस एक साथ आईं और काफी विचार-विमर्श के बाद राज्य में सरकार बनाई, अल्पसंख्यक(minority) समुदायों के प्रतिनिधियों ने कहा था कि यदि उनकी पार्टी शिवसेना के साथ हाथ मिलाती है तो उन्हें कोई आपत्ति नहीं होगी, लेकिन भाजपा को महाराष्ट्र में सत्ता से दूर रखा जाना चाहिए"

यह भी पढ़े- राज ठाकरे ने बोयी हिंदुत्व की फसल!

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें