Advertisement

निसर्ग तूफान: उद्धव ठाकरे ने अमित शाह से की बात

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सोमवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से बात कर राज्य के चक्रवात निसर्ग से पहले की तैयारियों पर चर्चा की।

निसर्ग तूफान: उद्धव ठाकरे ने अमित शाह से की बात
SHARES
Advertisement

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सोमवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से बात कर राज्य के चक्रवात निसर्ग (cyclone nisarga) से पहले की तैयारियों पर चर्चा की।

भारत के मौसम विभाग (IMD) ने चक्रवात निसर्ग के खतरे के बीच महाराष्ट्र और गुजरात के तटीय क्षेत्रों में हाई अलर्ट जारी किया है, जिसमें 3 जून को पश्चिमी तट पर चक्रवाती तूफान (Nisarga) आने की भविष्यवाणी की गई है।

इस संभावित तूफान को देखते हुए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने गृह मंत्री अमित शाह से बात की। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा हुई इस बातचीत में ठाकरे ने बताया कि मुंबई शहर और उसके उपनगर ठाणे, पालघर, रायगढ़, रत्नागिरी और सिंधुदुर्ग के साथ-साथ कुछ स्थानों को चक्रवात के मद्देनजर हाई-अलर्ट घोषित किया गया है।

ठाकरे ने कहा कि आपदा प्रबंधन, राहत और पुनर्वास सहित संबंधित विभागों को स्थिति से निपटने के लिए अलर्ट मोड पर रखा गया है। इसके अलावा, मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने के लिए कहा गया है और तट रक्षकों को भी तैनात कर दिया गया है।

मुंबई के निचले इलाकों और झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वालों को सचेत रहने के लिए कहा गया है,वहां पर भी सुरक्षा रक्षकों की तैनात किया गया है।

चक्रवात के कारण विस्फोट से बचने के निर्देश दिए गए हैं।  केंद्रीय गृह मंत्रालय के अनुसार, राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) की 16 इकाइयों को बचाव कार्यों के लिए तैनात किया गया है और सात टीमें स्टैंडबाय मोड पर हैं।

तूफान को देखते हुए एनडीआरएफ की 3 टीमों को मुंबई में तैनात किया गया है। इसके अलावा पालघर और रायगढ़ में दो-दो टीमें और एक टीम को ठाणे और रत्नागिरी में तैनात किया गया है।

बृहन्मुंबई नगर निगम (BMC) ने नागरिकों से समुद्र के पास न जाने और पेड़ों और खंभों के नीचे न खड़े होने का अनुरोध किया है। BMC के एक अधिकारी ने कहा कि, हम यह सुनिश्चित करने की दिशा में काम कर रहा है कि चक्रवात के कारण कोई जानमाल का नुकसान न हो।

इस बीच उद्धव ठाकरे ने निसर्ग चक्रवात के कारण  महाराष्ट्र सरकार की स्थिति और की गई तैयारियों की समीक्षा करने के लिए कैबिनेट की बैठक भी कर रहे हैं।

IMD होने वाले खतरे को चार-रंग कोडित चेतावनी जारी करती है। जिसके मद्देनजर  3 जून को महाराष्ट्र में तटीय क्षेत्रों के लिए एक लाल-रंग (red alert) कोडित चेतावनी जारी की गई है।

संबंधित विषय
Advertisement