कोस्टल रोड के लिए ज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान-राष्ट्रीय समुद्र विज्ञान संस्थान की नियुक्ति

दरअसल बीएमसी को यह सुनिश्चित करना था की कोस्टल रोड परियोजना का ज्वार और समुद्री जैव विविधता संरक्षण योजना के विकास पर कोई बूरा असर नहीं होना चाहिए।

SHARE

बीएमसी ने कोस्टल रोड परियोजना के लिए समुद्री जैव विविधता संरक्षण योजना विकसित करने के लिए वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान-राष्ट्रीय समुद्र विज्ञान संस्थान (CSIR-NIO) की नियुक्ति की है। NIO परियोजना के समुद्र और भूजल स्तर और ज्वार के पैटर्न के असर का भी अध्ययन करेगा। बुधवार को स्थायी समिति की बैठक में प्रस्ताव पेश किया जाएगा।

संरक्षण योजना के लिए 55 लाख रुपये आवंटित किये गए है। जबकि समुद्र और भूजल स्तर पर तटीय सड़क के प्रभाव का अध्ययन करने के लिए 7 करोड़ रुपये आवंटिय किये गए है। 2017 में बीएमसी को पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय (एमओईएफ) की विभिन्न सिफारिशों के बीच, यह सुनिश्चित किया था कि कोस्टल रोड परियोजना का ज्वार और समुद्री जैव विविधता संरक्षण योजना के विकास पर कोई बूरा असर नहीं होना चाहिए।


बुधवार को स्थायी समिति की मंजूरी के बाद, एनआईओ की सर्वेक्षण रिपोर्ट हर छह महीने में एमओईएफ को सौंपी जाएगी।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें