Advertisement

मुंबई : दहिसर, बोरीवली, कांदिवली, मालाड और मुलुंड में कोरोना के रिकॉर्ड तोड़ केस

मुंबई में नए मामलों की वार्ड-वार वृद्धि दर वर्तमान में 1.58 प्रतिशत है। हालांकि, शहर के दस वार्डों की औसत विकास दर मुंबई के समग्र औसत दर से अधिक है।

मुंबई : दहिसर, बोरीवली, कांदिवली, मालाड और मुलुंड में कोरोना के रिकॉर्ड तोड़ केस
SHARES


मुंबई शहर में कोरोनोवायरस (Covid-19 case in mumbai) के मामलों की संख्या पिछले कुछ दिनों से तेजी से बढ़ रही है। शहर भर के कई वार्डों, विशेष रूप से उत्तरी मुंबई (north mumbai) में, COVID-19 मामलों में तेजी से वृद्धि हो रही है। जिसके बाद संबंधित अधिकारियों द्वारा कोरोना (Coronavirus) को फैलने से रोकने के लिए सख्त और महत्वपूर्ण उपाय किए जा रहे हैं।

मुंबई में नए मामलों की वार्ड-वार वृद्धि दर वर्तमान में 1.58 प्रतिशत है। हालांकि, शहर के दस वार्डों की औसत विकास दर मुंबई के समग्र औसत दर से अधिक है।

बृहन्मुंबई नगर निगम (BMC) द्वारा जारी रिपोर्ट के अनुसार, उत्तरी मुंबई के क्षेत्रों में Covid-19 मामलों की दर काफी अधिक है। पिछले सात दिनों के यानी 6 जुलाई 2020 तक के आंकड़ों में कहा गया है कि, वार्ड-टी (मुलुंड) की वृद्धि दर 3.4 प्रतिशत है। वार्ड आर - उत्तर, मध्य और दक्षिण (दहिसर, बोरीवली और कांदिवली) के सभी तीन इलाके कोरोना हॉटस्पॉट (Corona hotspot) बने हुए हैं। इन तीनों में, वार्ड आर-सेंट्रल (बोरीवली) की कोरोना विकास दर सबसे अधिक है जो 3.2 प्रतिशत है। इसके बाद आर-नॉर्थ (दहिसर) में कोरोना वृद्धि दर 2.8 प्रतिशत है जबकि आर-साउथ (कांदिवली) इलाके में 2.5 प्रतिशत है तो वहीं पी-नॉर्थ (मलाड) में 2.3 फीसदी है।

अगर इन तीनों इलाके का वार्ड वाइज विश्लेषण करें तो पता चलता है कि, यहां कोरोना वृद्धि दर के कारण मरीजों की संख्या में भी वृद्धि हो रही है। जिसके मुताबिक वार्ड आर-साउथ (कांदिवली) में 3330 मामले हैं, तो वार्ड आर-सेंट्रल में (बोरीवली) 3265 मामले जबकि वार्ड आर-नॉर्थ (दहिसर) में 1938 मामले हैं। हालांकि, मुंबई में वार्ड पी-नॉर्थ (मलाड) में तीसरे सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं।

ये तीनों वार्ड में मरीजों की दुगुनी होने की दर यानी डबलिंग रेट भी मुंबई के सभी वार्डों की अपेक्षा सबसे कम हैं। वार्ड टी (मुलुंड) में डबलिंग रेट 28 दिन है जबकि वार्ड आर-मध्य (बोरीवली) में 22 दिन, तो वहीं आर-दक्षिण (कांदिवली) में 25 दिन, वार्ड आर-उत्तर (दहिसर) में 28 दिन हैै, जबकि वार्ड पी-उत्तर (मलाड) में 31 दिन हैं।  यह संख्या मुंबई केे डबलिंग रेट से कम है, जो वर्तमान में 44 दिन है।

इसे देखते हुए, बीएमसी ने पूरे मुंबई में कई इलाकों और इमारतों को सील कर दिया है। शहर के सबसे उच्च कोरोना वृद्धि वाले इलाके वार्ड आर-सेंट्रल (बोरीवली) में कुल 830 भवन सील किए गए हैं।  तो वहीं वार्ड पी-नॉर्थ (मलाड) और वार्ड आर-साउथ (कांदिवली) में क्रमशः 484 और 194 तो वार्ड आर-नॉर्थ (दहिसर) में 552 इमारतों को सील किया गया है।

Read this story in मराठी or English
संबंधित विषय