ganpati utsav : मंदी के बीच महंगाई चरम पर, भक्त परेशान

आम दिनों की अपेक्षा सूखे मेवे इस समय 25 फीसदी अधिक अधिक महंगे दामों में बिक रहे हैं। सूखे मेवे सहित अन्य सामानों के सामान भी बल्लियों उछल रहे हैं।

SHARE

गणेशोत्सव को अब कुछ ही दिन रह गये हैं, इसकी तैयारी लगभग पूरी हो गयी है। मुंबई के लगभग सभी बाजार सजावटी सामानों में भरे पड़े हैं। इसका असर अब सूखे मेवे पर भी पड़ रहा है। आम दिनों की अपेक्षा सूखे मेवे इस समय 25 फीसदी अधिक अधिक महंगे दामों में बिक रहे हैं। सूखे मेवे सहित अन्य सामानों के सामान भी बल्लियों उछल रहे हैं।  

वैसे तो अमूमन हर त्योहारो पर सूखे मेवे की डीमांड बढ़ जाती है लेकिन गणेशोत्सव के अवसर पर डिमांड कुछ अधिक ही हो जाती है। भारत अधिकांश सूखे मेवे बाहर के देशों से आयात करता है। यह मेवे अफगानिस्तान, इरान, ईराक, अमेरिका जैसे अन्य देशों से मंगाए जाते हैं। त्योहारो में इनकी मांग बढ़ जाती है जिससे ये महंगे दामों में बिकने लगते हैं। लेकिन इस बार इनकी कीमतें आसमान छु रही हैं।

एक नजर कीमतों पर 

 

मेवा 
रुपये (प्रतिकिलो)
बदाम
980 से 1200 लेकर  
काजू 
1250 से 2600
किशमिश 
1100 से 2200
अंजीर 
1500 से 2800
पिस्ता सॉल्टेड
2000 से 3500
पिस्ता प्लेन 
3200
अखरोट 
1300से 2400
खुबानी 
1100 से 1600
खजूर   
480 से 1100
ममरा बदाम
3000 से 6800


'सामानों में कटौती'
गणेशोत्सव के अवसर पर दादर बाजार में मेवे खरीदने आए एक ग्राहक संकेत कुमार का कहना है कि वे हर साल गणपति अपने घर लाते हैं। उन्हें पता होता है कि यह त्योहारों का सीजन है इसीलिए महंगाई कुछ न कुछ रहेगी लेकिन इस बार की महंगाई देख कर वे हैरान हैं। उनका कहना है कि, इस बार सामानों की कीमतें आसमान छू रही हैं। इतनी महंगाई उन्होंने आज तक नहीं देखी थीं। वे आगे कहते हैं कि मेवे के दाम उनके बजट के बाहर हैं, कुछ नही खरीदने से अच्छा है कि कुछ सामानों में कटौती की जाए।

'घर का बजट होगा प्रभावित'
इसी तरह से सामान खरीदने आई एक महिला ग्राहक रेखा शिंदे का कहना है कि वे हर साल बड़ी धूमधाम से बप्पा को अपना घर लाती हैं, इसके लिए वे अपने घर को काफी सजाती हैं। लेकिन इस बार की महंगाई को देख कर उन्होंने सामानों में कटौती की है। वे कहती हैं कि बप्पा को घर तो लाना ही है लेकिन इस बार का बजट उनके घर का बजट को प्रभावित करेगा।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें