Advertisement

अगर बिल्डिंग में निकला COVID-19 मरीज तो सोसाइटी में क्या होंगे बदलाव?

जिस सोसाइटी में कोविड-19 पॉजिटिव मरीज पाया जाता है, उस सोसाइटी को कंटेनमेंट जोन में रख दिया जाता है।

अगर बिल्डिंग में निकला COVID-19 मरीज तो सोसाइटी में क्या होंगे बदलाव?
SHARES
Advertisement

देश में लॉकडाउन (Lockdown)  का चौथा चरण समाप्त होने की कगार पर है, पर मुंबई में कोविड-19 के केस रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं। हर दिन यहां पर कोरोना वायरस (Coronavirus) मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। हालांकि लॉकडाउन 4.0 में जनता को काफी सहूलियत दी गई है। पर जहां पर जिस सोसाइटी में जिस बिल्डिंग में कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलता है, वहां पर लगभग सारी सुविधाएं बंद कर दी जाती हैं। साथ ही सोसाइटी में कई तरह के बदलाव हो जाते हैं।

जिस सोसाइटी में कोविड-19 पॉजिटिव मरीज पाया जाता है, उस सोसाइटी को कंटेनमेंट जोन में रख दिया जाता है।

इस बिल्डिंग के दरवाजे पर बीएमसी द्वारा कंटेनमेंट जोन का बोर्ड लगा दिया जाता है। साथ ही पॉसिबल होता है तो उस रोड को भी ब्लॉक कर दिया जाता है। इस बिल्डिंग में किसी के बाहर जाने या अंदर आने की अनुमति नहीं होती है।

जहां दूसरे लोगों को सुबह 7:00 बजे से लेकर शाम 5:00 बजे तक जरूरी काम से बाहर जाने की परमिशन होती है। वही कंटेनमेंट जोन के लोगों को यह परमिशन नहीं दी जाती है।

कंटेनमेंट जोन में रह रहे लोगों को होम डिलीवरी के जरिए जीवन आवश्यक वस्तुएं मंगानी होती है।

14 दिनों के बाद बिल्डिंग से कंटेनमेंट जोन का बोर्ड हटा दिया जाता है।


संबंधित विषय
Advertisement