SHARE

 बीएमसी मुंबई की सोसायटियों को डेंगू और मलेरिया की रोकथाम के लिए जारी किए जानेवाले गाइडलाइंस का पालन ना करनेवाले के कारण उनको  लीगल नोटिस भेजना शुरु कर दिया है। जिसके कारण कई बार कई मामले न्यायालय में लंबीत पड़े रहते है। जिससे निपटने के लिए बीएमसी ने अब 100 निजी वकिलों को नियुक्त किया है साथ ही जो भी वकिल इस तरह के मामले को पहले निपटाएगा उसे बीएमसी की ओर से अतिरिक्त प्रोत्साहन राशि भी दी जाएगी।

मुंबई में सभी सोसायटी और रहिवासी संघो को मानसून के पहले डेंग्यु के लार्वा को रोकने के लिए प्रतिबंधात्म कार्रवाई करने के लिए कहा था, बावजूद इसके अभी भी कई लोगों ने बीएमसी की इस गाइडलाइंस का पालन नहीं किया। बीएमसी की ओर से कई लोगों को बीएमसी के स्वास्थ विभाग के 381(बी) के तहत नोटिस जारी किया गया है। नोटिस मिलने के बाद आनेवाले दो से तीन महिनों में इसकी सुनवाई कोर्ट में होती है।

न्यायालय में आरोग्य विभाग और लाइसेंस विभाग के साथ साथ कई विभाग एक साथ शिकायत दर्ज कराते है। लेकिन इन सब मामलों के लिए सिर्फ एक ही विधी अधिकारी का पद है, जिसपर काफी बार कार्य का बोझ बढ़ जाता है और वह इस कार्य पर ध्यान  नहीं दे पाते है। जिसके कारण  जिनको नोटिस मिला है उन्हे समय पर सज़ा नहीं मिल पाती।

जिसके कारण बीएमसी के किटक नाशक विभाग के प्रमुख अधिकारी राजन नारिंग्रेकर ने पिछलें साल महापालिका आयुक्त अजोय मेहता को पत्र लिखकर निजी वकिलों की नियुक्ति की मांग की थी। जिसपर बीएमसी ने रजामंदी दे दी है।

कुछ खास आकड़ो पर एक नजर

बीएमसी की कार्रवाई  संख्या
अगस्त तक बीएमसी द्वारा जारी किए गए नोटिस
11237
मजिस्ट्रेट के पास मामलें
637
जुर्माना
22 लाख 6 हजार रुपये


डाउनलोड करें Mumbai live APP और रहें हर छोटी बड़ी खबर से अपडेट।

मुंबई से जुड़ी हर खबर की ताज़ा अपडेट पाने के लिए Mumbai live के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

(नीचे दिए गये कमेंट बॉक्स में जाकर स्टोरी पर अपनी प्रतिक्रिया दें)


संबंधित विषय
ताजा ख़बरें