सीएसटी हादसे के बाद अभी भी कई ब्रिज अत्यंत खतरनाक की श्रेणी में

सीएसएमटी हादसे (हिमालय ब्रिज) के बाद कुल 253 ब्रिजों का अब तक ऑडिट किया जा चुका है। जिसमें से शहर में 39, पश्चिम उपनगर में 150, पूर्वी उपनगर में 64 ब्रिज स्थित हैं। जो अतिरिक्त ब्रिजों का ऑडिट किया गया है उसे भी मिला ले तो इस ऑडिट में 14 ब्रिज अत्यंत ही खतरनाक के श्रेणी में हैं।

SHARE

छत्रपती शिवाजी महाराज टर्मिनस (सीएसएमटी) ब्रिज हादसे के जख्म भले ही धीरे-धीरे भर रहे हो लेकिन इसकी कोई गारंटी नहीं है कि इस हादसे के बाद अब कोई और हादसा नहीं होगा। दरअसल इस हादसे के बाद जब रेलवे ने मुंबई के अन्य ब्रिजों का निरिक्षण किया तो कुल 11 ब्रिज ऐसे थे जो अत्यंत ही खतरनाक कि श्रेणी में थे, और अब हाल ही में जब फिर से ब्रिजों का निरिक्षण किया गया तो अति खतरनाक की श्रेणी में 6 ब्रिज और आ गये। इस तरह से मुंबई में कुल 17 ब्रिज अति खतरनाक की श्रेणी वाले में हैं।  

सीएसएमटी हादसे के बाद जब अन्य ब्रिजों का ऑडिट किया गया तो उपनगर में 11  ब्रिज अत्यंत ही खतरनाक की श्रेणी में आये थे। इन ब्रिजों में 6 ब्रिज पश्चिम उपनगर के तो 5 ब्रिज पूर्वी उपनगर के हैं। इसके बाद अभी हाल ही में जब मुंबई के पश्चिमी उपनगर में स्थित 150 और पूर्वी उपनगर में 64 ब्रिजों का ऑडिट फिर से किया गया तो इस बार 6 ब्रिज अत्यंत खतरनाक ब्रिज की श्रेणी में आये।  

सीएसएमटी हादसे (हिमालय ब्रिज) के बाद कुल 253 ब्रिजों का अब तक ऑडिट किया जा चुका है। जिसमें से शहर में 39, पश्चिम उपनगर में 150, पूर्वी उपनगर में 64 ब्रिज स्थित हैं। जो अतिरिक्त ब्रिजों का ऑडिट किया गया है उसे भी मिला ले तो इस ऑडिट में 14 ब्रिज अत्यंत ही खतरनाक के श्रेणी में हैं। इन 14 ब्रिजों में से 11 उपनगर में टी 3 शहर में स्थित है। इसके अलावा 61 ब्रिजों की काफी मरम्मत होनी है जबकि 107 ब्रिजों में छुटपुट मरमम्त का कार्य होना है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें