Advertisement

धारावी पैटर्न को विश्व बैंक ने भी सराहा

विश्व बैंक ने कहा कि, धारावी में सार्वजनिक भागीदारी और स्थानीय स्तर पर उपायों के माध्यम से कोरोना वायरस (Corona virus) के संक्रमण को प्रभावी रूप से रोका गया है।

धारावी पैटर्न को विश्व बैंक ने भी सराहा
SHARES

कोरोना वायरस (Coronavirus) के प्रसार को लेकर शुरुआत में धारावी (Corona in dharavi) जैसे इलाके को लेकर सबके मन मे कई आशंकाएं और चिंताएं थीं। लेकिन जिस तरह से BMC ने वहां काम करके कोरोना (Covid-19) को कंट्रोल में किया, वह न केवल देश बल्कि विदेश में भी काफी सराहा गया। 

कई देशों और अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं द्वारा सराहे जाने के बाद अब विश्व बैंक (world bank) ने सफलतापूर्वक कोरोना को रोकने के लिए धारावी पैटर्न (dharavi pattern) को लेकर BMC के प्रयासों की सराहना की है।

एशिया में सबसे बड़ी झुग्गी झोपड़े के रूप में पहचान बनाने वाली धारावी (asia largest slum area dharavi) में कोरोना ने शुरुआत में अपने पैर तेजी से फैलाए। जिसे देखकर प्रशासन हरकत में आ गया। वहां सरकार, स्थानीय निकाय, सरकारी और प्राइवेट डॉक्टरों, संस्थाओं सहित कई समाजसेवियों और बुद्धजीवियों के अथक प्रयासों के कारण धारावी में कोरोना नियंत्रण में आ गया।  इसलिए, धारावी दुनिया भर के देशों के लिए कोरोना से लड़ने वाला रोल मॉडल बन गया है।

विश्व बैंक ने कहा कि, धारावी में सार्वजनिक भागीदारी और स्थानीय स्तर पर उपायों के माध्यम से कोरोना वायरस (Corona virus) के संक्रमण को प्रभावी रूप से रोका गया है। विश्व बैंक की एक रिपोर्ट के मुताबिक, मुंबई में कोरोना नियंत्रण पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है।

विश्व बैंक ने अपनी द्विवार्षिक रिपोर्ट 'गरीबी और सामयिक समृद्धि' में कहा है कि संक्रमण की सबसे अधिक घटना मई में हुई थी, लेकिन उचित उपायों के कारण जुलाई में कोरोना का प्रकोप तीन महीने बाद 20 प्रतिशत तक कम हो गया।

प्रशासन की तरफ से धारावी में बुखार और कम ऑक्सीजन के स्तर वाले रोगियों की बड़े पैमाने पर जांच की गयी। इतना ही नहीं, बल्कि निजी अस्पतालों के कर्मचारियों को भी तैनात किया गया, जिससे कोरोना फैलने से रोका जा सके।

धारावी पैटर्न को पहले विश्व स्वास्थ्य संगठन, फिर वाशिंगटन पोस्ट द्वारा सराहा गया था। उसके बाद फ़िलिपीन की सरकार ने भी उस पैटर्न को अपने यहां लागू किया।

हालांकि पिछले एक महीने से मुंबई में कोरोना के मरीजों की संख्या फिर से बढ़ रही है। लेकिन, धारावी में रोगियों की संख्या अभी भी नियंत्रण में है। इस संबंध में, विश्व बैंक ने नगरपालिका की पीठ थपथपाई है।

Read this story in मराठी
संबंधित विषय