आसाराम को उम्रकैद, दो सेवादारों को भी 20-20 साल की सजा

कोर्ट ने आसराम के सेवादार शिल्पी उर्फ संचिता गुप्ता(सेविका), शरदचंद्र उर्फ शरतचंद्र को भी दोषी करार देते हुए 20-20 साल की सजा सुनाई तो वहीं शिवा उर्फ सवाराम (आसाराम का प्रमुख सेवादार), प्रकाश द्विवेदी (आश्रम का रसोइया) को बरी कर दिया है।

आसाराम को उम्रकैद, दो सेवादारों को भी 20-20 साल की सजा
SHARES

आखिरकार आसाराम को उसके द्वारा किये गए कुकर्मों की सजा मिल ही गयी। जोधपुर की विशेष कोर्ट ने आसाराम को दोषी करार देते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई है यही नहीं कोर्ट ने आसराम के सेवादार शिल्पी उर्फ संचिता गुप्ता(सेविका), शरदचंद्र उर्फ शरतचंद्र को भी दोषी करार देते हुए 20-20 साल की सजा सुनाई तो वहीं शिवा उर्फ सवाराम (आसाराम का प्रमुख सेवादार), प्रकाश द्विवेदी (आश्रम का रसोइया) को बरी कर दिया है। अब आसाराम की उम्र जेल में ही बीतेगी। जब कोर्ट ने जज ने अपना फैसला सुनाया तब आसाराम कोर्ट में ही रोने लगा


 जेल में ही लगा कोर्ट

बता दें कि एससी-एसटी कोर्ट के विशेष जज मधुसूदन शर्मा ने यह फैसला सुनाने के लिए जेल में ही कोर्ट लगाया और वहीं फैसला सुनाया। नाबालिग से रेप के आरोप में आसाराम क़रीब 5 साल से जोधपुर जेल में बंद था इस मामले में आसाराम सहित तीन अन्य को भी दोषी करार दिया गया है जबकि दो लोगों को बरी किया गया है। पुलिस ने आसाराम रेप के ख़िलाफ़ नवंबर 2013 में चार्जशीट दाख़िल की थी। 

पीड़िता परिवार ने किया स्वागत 

कोर्ट का फैसला आने के बाद पीड़ित परिवार ने इस फैसले का स्वागत किया है। पीड़ित लड़की के पिता ने कहा कि हमें न्याय मिला। जिन लोगों ने हमारा साथ दिया हम उनका शुक्रिया अदा करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि हम उम्मीद करते हैं कि अब आसाराम को कड़ी सजा दी जाएगी। इसके पहले आसाराम के वकील ने भी आसराम की उम्र का लिहाज करते हुए सजा में नरमी बरतने की गुहार लगायी थी

सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम 

राम रहीम मामले से सबक लेते हुए राजस्थान पुलिस ने सुरक्षा की कड़े इंतजाम किये है, जोधपुर में धारा 144 लागू है और शहर छावनी में तब्दील कर दिया गया है यही नहीं दिल्ली सहित यूपी, बिहार, एमपी, और उत्तर भारत के कई जिलों में ही एहतियातन पुलिस बल तैनात किये गए हैं

 

संबंधित विषय