कोर्ट से भगौड़े विजय माल्या से संबंधित कुछ जरूरी कागज पत्र हुए गायब

गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में उसके रिव्यू पिटीशन पर सुनवाई हो रही थी। लेकिन, केस से जुड़े कुछ अहम डॉक्यूमेंट गायब होने के कारण सुनवाई 20 अगस्त तक टल गई।

कोर्ट से भगौड़े विजय माल्या से संबंधित कुछ जरूरी कागज पत्र हुए गायब
SHARES

एक चौकानें वाली खबर सामने आई है, पता चला है कि कई बैंक घोटाले के आरोपी भगौड़े विजय माल्या (vijay mallya) के केस के मामले में कई महत्वपूर्ण दस्तावेज अदालत से गायब हो गए हैं। गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में उसके रिव्यू पिटीशन पर सुनवाई हो रही थी। लेकिन, केस से जुड़े कुछ अहम डॉक्यूमेंट गायब होने के कारण सुनवाई 20 अगस्त तक टल गई। आरोपी माल्या इस समय लंदन में है जहां से उसे भारत लाना है। इस केस में जस्टिस यूयू ललित और जस्टिस अशोक भूषण की बेंच सुनवाई कर रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बेंच ने माल्या (Vijay mallya) के इंटरवेशन एप्लीकेशन पर जवाब मांगा था, जिसे केस के फाइल से गायब पाया गया। इसके बाद बचाव पक्ष ने जवाब दाखिल करने के लिए कोर्ट से समय मांगा। इसके बाद कोर्ट ने अगली तारीख दे दी।

गौरतलब रहे कि, यह रिव्यू पिटीशन विजय माल्या के कोर्ट के अवमानना मामले से जुड़ी है। 14 जुलाई 2017 में इस केस में सुनवाई के दौरान कोर्ट ने माल्या को बैंकों को 9000 करोड़ का बकाया चुकाने के आदेश का पालन न करने का दोषी पाया गया था। क्योंकि माल्या ने कोर्ट के आदेश की अवहेलना करते हुए अपने बच्चों को 4 करोड़ डॉलर ट्रांसफर किए थे। माल्या द्वारा उसी फैसले के खिलाफ याचिका दायर की थी, जिसमें  आज की सुनवाई उसी को लेकर थी।

इससे पहले, सुप्रीम कोर्ट ने 19 जून को पिछले 3 साल से माल्या की रिव्यू पिटीशन को लिस्ट न करने के संबंध में अपनी रजिस्ट्री से स्पष्टीकरण मांगा था। 

पिछली सुनवाई में 19 जून को अदालत के सामने माल्या की अपील को 3 साल से सूचीबद्ध न केेरने केे कारण रजिस्ट्री से जवाब मांगा था। इसके बाद बेंच ने रजिस्ट्री से कहा था है कि वह पिछले 3 साल से पिटीशन से जुड़ी फाइल से डील कर रहे अधिकारियों के नाम के साथ पूरी डीटेल दे। कोर्ट ने था कहा कि रिव्यू पिटीशन पर सुनवाई से पहले रजिस्ट्री हमें ये बताए कि पिछले 3 साल से मामले को कोर्ट में लिस्ट क्यों नहीं किया गया।

माल्या 2 मार्च 2016 को भारत छोड़कर भाग गया।  उन्हें 18 अप्रैल 2017 को ब्रिटेन की पुलिस स्कॉटलैंड यार्ड द्वारा गिरफ्तार किया गया था।  भारत सरकार माल्या को प्रत्यर्पित करने की कोशिश कर रही है।  माल्या पर भारत के 17 बैंकों का 9,000 करोड़ रुपये बकाया है।

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय