विधानसभा चुनाव के कारण छात्र संघ का चुनाव टला, छात्र यूनियन नाराज

यूनिवर्सिटी की तरफ से चुनाव कराने के लिए जो टाइम टेबल जारी किये गये थे उसे लेकर प्रशासन ने आपत्ति दर्ज की है।जिसके बाद छात्रस संघ के चुनाव को हाल फ़िलहाल के लिए टाल दिया गया है।

SHARE

राज्य सरकार ने छात्र संघ का चुनाव टालने का निर्णय लेकर एक बार फिर से छात्रों को झटका दिया है। हालांकि अभी तक यह तय नहीं किया गया है कि सरकार यह चुनाव कब तक करा सकेगी। यूनिवर्सिटी की तरफ से चुनाव कराने के लिए जो टाइम टेबल जारी किये गये थे उसे लेकर प्रशासन ने आपत्ति दर्ज की है।जिसके बाद छात्रस संघ के चुनाव को हाल फ़िलहाल के लिए टाल दिया गया है।

क्या था मामला?
आपको बता दें कि राज्य में दो महीने बाद विधानसभा का चुनाव है। इस चुनाव के कारण राज्य भर में आचार संहिता लागू होगी। और छात्र संघ के चुनाव की जो समय सारिणी जारी की गयी थी वह भी उसी चुनाव के करीब ही पड़ रही थी, जिसके बाद जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन ने छात्र संघ के चुनाव के समय पर सवाल उठाए। इसके बाद छात्रसंघ के चुनाव को टाल दिया गया है, हालांकि इसे अब आगे कण शुरू किये जाएगा इसकी तारीख अभी तक नहीं तय की गयी है।

इस तरह थी छात्र संघ चुनाव की समय सारिणी 

  • पिछड़े वर्ग के प्रतिनिधियों के लिए आरक्षण छोड़ना - 19 अगस्त
  • अंतिम मतदाता सूची की घोषणा - 1 अगस्त
  • मतदाता सूची पर आपत्ति दर्ज करना - 1 और 5 अगस्त (दोपहर 2 बजे)
  • अंतिम मतदाता सूची जारी - 1 अगस्त
  • उम्मीदवार द्वारा आवेदन पत्र भरना - 1 अगस्त (सुबह 8 से शाम 5 बजे)
  • जारी होने वाले उम्मीदवारों की अंतिम सूची - 1 अगस्त
  • विभागों और कॉलेजों में मतदान - 1 अगस्त (सुबह 8 से शाम 5 बजे)
  • मतदान और रिजल्ट  - 1 अगस्त (दोपहर 2 बजे के बाद)

छात्र यूनियन नाराज
पिछले 20 दिनों से कॉलेजों और विश्वविद्यालयों के छात्रसंघ के चुनाव में देरी को लेकर छात्र संघ अब नाराजगी जाहिर कर रहे हैं। छात्र संघ युनियन का कहना कि नवंबर के बाद चुनाव होने पर चुने गए छात्र प्रतिनिधियों को काम करने में समय ही नहीं मिलेगा। अपनी नाराजगी प्रकट करते हुए वे कहते हैं कि, 'सरकार द्वारा केवल चुनाव कराने का केवल नाटक किया जा रहा है। '

गौरतलब है कि राज्य में करीब 25 साल बाद छात्र संघ का चुनाव कराने की घोषणा सरकार द्वारा की गयी थी।

संबंधित विषय