मुंबई विश्वविद्यालय : 160 साल से कायम है विरासत

 Mumbai
मुंबई विश्वविद्यालय : 160 साल से कायम है विरासत

18 जुलाई को मुंबई विश्वविद्यालय की स्थापना को 160 साल हो गया यानी 18 जुलाई 1857 के दिन ही देश की सबसे पुरानी यूनिवर्सिटी ‘मुंबई युनिवर्सिटी’ की स्थापना की गई थी। इससे पहले इस यूनिवर्सिटी को 'बॉम्बे यूनिवर्सिटी' के नाम से जाना जाता था। 1996 में महाराष्ट्र सरकार ने 'बॉम्बे' का नाम बदलकर 'मुंबई' कर दिया था जिसके बाद से यह मुंबई यूनिवर्सिटी हो गई।

मुंबई यूनिवर्सिटी में 'वुड्स एजुकेशन डिस्पैच' नियम के अंतर्गत ही पढ़ाई होती है मतलब इस कॉलेज में यह नियम था कि यहां पर सिर्फ इंग्लिश मीडियम में ही पढ़ाई होगी। ऐसा इसलिए क्योंकि उस समय अंग्रेजी हुकूमत के सर चार्ल्स वुड बोर्ड ऑफ कंट्रोल ऑफ इस्ट इण्डिया कंपनी के प्रेसीडेंट थे, वुड ने ही भारत में पढ़ाई के स्तर को बढ़ाने के लिए इस तरह का नियम बनाया था।

आज मुंबंई यूनिवर्सिटी की गिनती दुनिया के टॉप यूनिवर्सिटी में होती है। कई बडे़-बडे़ कॉलेज मुंबंई युनिवर्सिटी से एफिलिएटेड हैं जैसे सेंट जेवियर्स कॉलेज। शुरूआत में मुंबई युनिवर्सिटी में सिर्फ अंडर ग्रेजुएट लेवल पर ही पढ़ाई हेती थी। समय के साथ पोस्ट ग्रेजुएशन लेवल पर भी पढ़ाई शुरू की गई। मुंबंई यूनिवर्सिटी देश की मेट्रोपोलिटियन सीटी के कैंपस में सबसे बड़ी यूनिवर्सिटी गिनी जाती हैं। यही नहीं मुंबई यूनिवर्सिटी को नेक (नेशनल एसेसमेंट एण्ड एक्रेडिशन काउंसिल) की तरफ से 5 स्टार मिल चुके हैं।


मुंबई युनिवर्सिटी के 3 मुख्य कैंपस भी है


1) फोर्ट कैंपस - फोर्ट कैंपस 1857 में स्थापित हुआ था। यह कैंपस युनिवर्सिटी का एडमिनिसट्रेटीव डिपार्टमेंट को हेंडल करता है।

2) कलिना कैंपस - कलिना कैंपस यह फोर्ट और रतनागिरी दोनों कैंपस से काफी बड़ा है जो मुंबई के बीच में स्थित हैं।

3) रत्नागिरी कैंपस - रत्नागिरी कैंपस छोटा कैंपस है जहां पर एक्ट्रा करिकुलर एक्टीविटीज होती है जैसे स्पोर्टस और आटर्स।  


अन्य डिपार्टमेंट भी हैं स्थित

इस कैंपस में अन्य कई प्रकार के डिपार्टमेंट्स भी स्थित हैं, इनमें आर्ट, साइंस, कॉमर्स, इंजीनियरिंग,मेडिसीन,टेक्नोलॉजी, रेडियो जॉकी और भी कई सारे हैं। डिस्टेंस एजुकेशन एण्ड लैंग्वेजेस का डिपार्टमेंट भी यहीं है। इन सबके अलावा कलिना कैंपस में जवाहर लाल नेहरू लाईब्रेरी नामसे एक बहुत बड़ी पब्लिक लाइब्रेरी भी है।


रोचक जानकारी  

मुंबई यूनिवर्सिटी का मॉडल यूनिवर्सिटी ऑफ लंदन से प्रेरित करता हुआ प्रतीत होता हैं।

गिलबर्ट स्कॉट ने इसका डिजाइन तैयार किया था, यह 15वीं शताब्दी का इटेलियन भवन जैसा दिखता हैं।

इस यूनिवर्सिटी में सिर्फ भारतीय नागरिक ही एडमिशन ले सकते हैं।

मुंबई यूनिवर्सिटी में पोस्ट ग्रेजुएशन के दो कैंपस है। 354 कॉलेज इस यूनिवर्सिटी से एफिलिएटेड है।

मुंबंई यूनिवर्सिटी, बिजनेस इनसाइडर सर्व के तहत दुनिया का 41वां बेस्ट इंजीनियरिंग कॉलेज है।



MU से पास हुए कुछ प्रसिद्ध पूर्व छात्र


माधुरी दीक्षित - धक-धक गर्ल माधुरी ने यहां से माइक्रोबायोलोजिस्ट किया हुआ है।

विद्या बालन - विद्या बालन ने समाज शास्त्र से एमए किया हुआ है।

चंदा कोचर - देश की सबसे अग्रणी प्राइवेट बैंक ICICI की एमडी और सीइओ चंदा कोचर ने यहां से मैनेजमेंट की डिग्री यहीं से हासिल की।

अनिल काकोडकर - भाभा परमाणु अनुसंधान केन्द्र (BARC) के निदेशक अनिल काकोडकर ने यहीं से मैकेनिकल इंजीनियरिंग किया था।

गंगाधर गाडगील - फेमस राइटर गंगाधर गाडगील ने यहां से अर्थशास्त्र में मास्टर की डिग्री यहीं से हासिल की थी.

मुहम्मद अली जिन्ना - पकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना ने भी यहीं से पढ़ाई की थी।







Loading Comments