नवरात्रि के छठे दिन करे मां कात्यायनी की पूजा !


  • नवरात्रि के छठे दिन करे मां कात्यायनी की पूजा !
SHARE

नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा की जाती है। मां कात्यायनी को मां का छठा स्वरुप माना जाता है। माना जाता है कि देवी के इसी स्वरूप ने महिषासुर का मर्दन किया था। ऐसी मान्यता है की मां कात्यायनी की पूजा करने से घर के क्लेश और शादी से जुड़ी सारी समस्याओं का समाधान होता है।

देवी कात्यायनी की पूजा करने से भक्तजनों में शक्ति का संचार होता है और वो इनकी कृपा से अपने दुश्मनों का संहार करने में सक्षम हो पाते हैं। महर्षि कात्यायन की कड़ी तपस्या के बाद मां कात्यायनी ने उनके यहां पुत्री के रुप में जन्म लिया। महर्षि कात्यायन के नाम पर ही मां कात्यायनी क नाम पड़ा।

सिंह है मां कात्यायनी की सवारी

मां कात्यायनी चार भुजा धारी है और सिंह पर वह सवार है। बांए हाथ में कमल व तलवार और दाहिने हाथ में स्वस्तिक और आशीर्वाद की मुद्रा होती है। नवरात्र की षष्ठी तिथि के दिन मां कात्यायनी की पूजा की जाती है क्योकी इसी तिथी को मां कात्यायनी ने जन्म लिया था।

मां को शहद बहुत पसंद

मां कात्यायनी को शहद काफी पसंद है इसके लिए उनकी पूजा के दौरान शहद का प्रयोग किया जाना चाहिए। शहद युक्त पान भी मां को काफी पसंद है।

नवरात्र के छठे दिन लाल रंग

नवरात्र के छठे दिन लाल रंग के कपड़े पहनने चाहिए। लाल रंग को शक्ति का प्रतीक माना जाता है।


डाउनलोड करें Mumbai live APP और रहें हर छोटी बड़ी खबर से अपडेट।

मुंबई से जुड़ी हर खबर की ताज़ा अपडेट पाने के लिए Mumbai live के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

(नीचे दिए गये कमेंट बॉक्स में जाकर स्टोरी पर अपनी प्रतिक्रिया दें) 

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें