Advertisement

मास्क और सेनेटाइजर की कीमतों पर नियंत्रण के लिए गठित होगी समिती : स्वास्थ्य मंत्री

कोरोना के प्रकोप के कारण मास्क और सैनिटाइज़र का उपयोग बढ़ गया है, मांग बढ़ने के कारण इसकी कीमतें भी बढ़ गईं, जिससे इसकी कालाबाजारी होने लगी। इस बात को लेकर विपक्ष सहित तमाम नागरिकों ने भी नाराजगी जताई।

मास्क और सेनेटाइजर की कीमतों पर नियंत्रण के लिए गठित होगी समिती : स्वास्थ्य मंत्री
SHARES


महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे (rajesh tope) ने मास्क और सैनिटाइज़र (mask and sensitizer) की कीमतों को नियंत्रित करने के और इन वस्तुओं के हो रहे काले बाजार पर अंकुश लगाने के लिए एक विशेष समिति का गठन किया है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा नियुक्त चार सदस्यीय समिति को तीन दिनों के भीतर रिपोर्ट देने का निर्देश दिया गया है। 

कोरोना (Coronavirus) के प्रकोप के कारण मास्क और सैनिटाइज़र का उपयोग बढ़ गया है, मांग बढ़ने के कारण इसकी कीमतें भी बढ़ गईं, जिससे इसकी कालाबाजारी होने लगी। इस बात को लेकर विपक्ष सहित तमाम नागरिकों ने भी नाराजगी जताई।

लगातार मिलती शिकायतों को देखते हुए राज्य सरकार द्वारा उनकी कीमतें तय करने के लिए एक समिति गठित करने का निर्णय लिया गया। इस बाबत 31 जुलाई को स्वास्थ्य मंत्री टोपे और खाद्य और औषधि प्रशासन मंत्री डॉ. राजेंद्र शिंगणे की संयुक्त बैठक हुई, जिसमें स्वास्थ्य विभाग ने सरकार के निर्णय द्वारा समिति का गठन किया।

गठित समिति में राज्य स्वास्थ्य गारंटी सोसायटी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और समिति के अध्यक्ष डॉ. सुधाकर, हाफकिन के प्रबंध निदेशक, राज्य औषधि नियंत्रण प्राधिकरण के संयुक्त आयुक्त और स्वास्थ्य निदेशक समिति के सदस्य सचिव इसमें शामिल हैं।

स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि यह समिति दोनों वस्तुओं (मास्क और सेनेटाइजर) को नियंत्रित दर पर प्राप्त करने के लिए कीमतों को नियंत्रित करते हुए मास्क और सैनिटाइज़र के लिए अधिकतम दरें निर्धारित करेगी। समिति को तीन दिनों के भीतर अपनी रिपोर्ट देने का निर्देश दिया गया है।  स्वास्थ्य मंत्री ने यह भी कहा कि यदि दोनों वस्तुओं की कीमतों को नियंत्रण में लाया गया तो आम आदमी को राहत मिलेगी।

संबंधित विषय
Advertisement