भारत की पहली अत्याधुनिक "अस्पताल ट्रेन"!

भारतीय रेलवे और इंपैक्ट इंडिया का अनोखा प्रयोग

SHARE

भारतीय रेलवे और इंडिया फाउंडेशन की संयुक्त कोशिश की बदौलत लाईफलाईन एक्सप्रेस नाम की एक ट्रेन को ही अस्पताल का रुप दे दिया गया है। ये ट्रेन भारतीय केलवे की पहली ट्रेन होगी जो मरीजों की सेवा चलते फिरते कर सकती है। इसके साथ ही इस ट्रेन में सभी अत्याधुनिक सेवाओं को रखा गया है।

यह भी पढ़े- महंगा होगा कर्ज लेना, RBI ने बढ़ाया रेपो रेट

दरअसल भारत में ऐसे कई ग्रामीण इलाके है जहां अभी भी स्वास्थ चिकित्सा सेवाएं अच्छी तरह से मौजूद नहीं है। गरीबों और जरुरतमंदो की मदद के लिए 16 जुलाई 1991 को पहली बार "लाईफलाईन एक्सप्रेस" को चलाया गया, लेकिन उस समय ये सिर्फ 5 कोच की गाड़ी हुआ करती थी। लाईफलाईन एक्सप्रेस को अमेरीका की सर्वोत्तम लोकसेवा का पुरपस्कार मिल चुका है।

5 की जगह 7 कोच की होगी ट्रेन

दिसंबर 2016 में, "लाइफलाइन एक्सप्रेस" कैंसर और पारिवारिक स्वास्थ्य सेवाओं को प्रदान करने के लिए 5 की जगह 7 कोच वाली ट्रेन चलाने लगा। इन डब्बो में मुंह, गर्भाशय और स्तन कैंसर में निवारक उपचार और सामान्य स्वास्थ्य विभाग हैं। इस यात्रा के लिए लगभग 10 हजार रोगियों का इलाज किया गया है।"लाईफलाईन एक्सप्रेस" में ऑर्थोपेडिक, ओपथिलमीक, मध्यम कान ऑपरेशन, प्लास्टिक सर्जरी , फॅमिली प्लांनिंग , स्त्रीरोग आणि कर्करोग विभाग , दातऔर आरोग्य स्वछता विभाग , एड्स और हेल्थ प्रोग्रॅम जैसी कई सुविधाए है।

"लाईफलाईन एक्सप्रेस" महाराष्ट्र में
"लाईफलाईन एक्सप्रेस" फिलहाल महाराष्ट्र दौरे पर है। महाराष्ट्र में सबसे पहले इसे लातूर में रोका जाएगा। महाराष्ट्र के कई अन्य जिलों का दौरा करने के बाद भारत के अन्य राज्यों का भी दौरा ये एक्सप्रेस करेगी।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें