महंगा होगा कर्ज लेना, RBI ने बढ़ाया रेपो रेट

रेपो रेट की दर 6 फिसदी से बढ़कर 6.25 प्रतिशत हो गया है

SHARE

आरबीआई ने बुधवार को तीन दिवसीय मौद्रिक समीक्षा नीति की बैठक में रेपो रेट में परिवर्तन किया है। आरबीआई ने रेपो रेट में 0.25 फिसदी की बढ़ोत्तरी की है। जिसके बाद अब रेपो रेट की दर 6 फिसदी से बढ़कर 6.25 प्रतिशत हो गया है। आरबीआई के इस फैसले के अब कर्ज लेना और भी महंगा हो जाएगा।


आपकी EMI होगी महंगी

बुधवार को रिजर्व बैंक के रेपो रेट के दर बढ़ाने के फैसले के बाद होम लोन, ऑटो लोन पर लगने वाले ब्याज के साथ हर तरह का कर्ज महंगा होना तय है। अधिकतर विशेषज्ञों का मानना था की केंद्रीय बैंक पर बढ़ती खुदरा महंगाई और क्रूड ऑयल की कीमतों के चलते ब्याज दरें बढ़ाने का दबाव है, जिसके कारण आरबीआई ने रेपो रेट में बढ़ोत्तरी का फैसला लिया है।

यह भी पढ़े- मुंबई पोर्ट ट्रस्ट में वैकेंसी, तुरंत करें अप्लाई

रिजर्व बैंक के सामने बड़ी चुनौती महंगाई पर काबू पाना है, जो आरबीआई के कंफर्ट जोन से बाहर जाने के करीब पहुंचती दिख रही है। खुदरा महंगाई दर लगातार नवंबर 2017 के बाद से 4 फीसदी के ऊपर बनी हुई है, जबकि कोर सेक्टर की महंगाई दर 6 फीसदी है।

बैंकों ने कर्ज महंगा किया
रिजर्व बैंक के ब्याज दरों पर फैसले के पहले ही कई बैंकों ने अपने कर्ज महंगे कर दिए थे। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक ऑफ बड़ौदा ने मंगलवार को अपने एमसीएलआर में 0.05% की बढ़ोतरी की है। ये दरें सात जून से लागू होंगी। इससे पहले एसबीआई, पीएनबी और आईसीआई बैंक भी अपनी ब्याज दरें बढ़ा चुके हैं। लिहाजा बुधवार के फैसले के बाद बैंको के कर्ज पर ब्याज और भी बढ़ जाएगा।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें