संक्रमण शिबीर का सर्वेक्षण होगा डिजीटल

मुंबई में म्हाडा की 56 कॉलोनियां हैं।

SHARE

म्हाडा के  संक्रमण शिबिर में कितने लोग रहते है और उनकी स्थिती को जानने के लिए म्हाडा की ओर से सर्वेक्षण किया जाएगा। इस पूरी जानकारी को डिजीटल रुप में संभालकर रखा जाएगा। मुंबई में  म्हाडा की 56 कॉलोनियां हैं। इन कॉलोनियों में ध्वस्त या खराब  इमारतों में रहनेवाले लोगों को  संक्रमण शिविर में शिफ्ट किया जाता है।  लोगों को कई बार इन शिबिरों मे 15 से 20 साल तक रहना पड़ता है। यह भी बताया गया है कि कुछ किरायेदारों ने ट्रांजिट कैंप में रुम को खरीदा और बेचा भी है।

शिविरों में, अनौपचारिक रूप से कई लोग रह रहे है जिससे म्हाडा को इसका काफी नुकसान हो रहा है। इसके कारण म्हाडा के किराया संग्रह शिविरों का सर्वेक्षण करने का निर्णय लिया गया है। इस सर्वेक्षण के लिए नवीनतम प्रौद्योगिकी का उपयोग किया जाएगा।  बायोमेट्रिक्स सर्वेक्षण कार्य के लिए स्लम इंप्रूवमेंट बोर्ड के साथ-साथ कुछ निजी संगठनों की भी प्रस्तुतियाँ हुई हैं।

ट्रांजिट कैंपों का सर्वे जल्द शुरू किया जाएगा। गाले  में रहने वाले किरायेदारों को विभिन्न दस्तावेजों के आधार पर सर्वेक्षण किया जाएगा। इसके लिए विशेष सॉफ्टवेयर बनाया गया है। इस सॉफ्टवेयर की निगरानी म्हाडा आईटीसी द्वारा की जा रही है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें