मुंबई में बढ़ता गंजापन, जाने इससे बचने के उपाय

 Mumbai
मुंबई में बढ़ता गंजापन, जाने इससे बचने के उपाय

जगह:  डॉ. का क्लीनिक

स्थान: सांताक्रुज

51 मरीजों की जांच की जा चुकी है और 17 अभी भी इंतजार कर रहे हैं।  ट्राइकोलॉजिस्ट अपूर्वा शाह के क्लिनिक में शनिवार को शाम के 3 बज चुके हैं। पर डॉ शाह रोगियों की भारी तादात देखकर खुश नहीं है। इसके उलट वह इस बात को लेकर परेशान हैं कि इस शहर को हुआ क्या है? इतनी कम उम्र में लोग गंजेपन का शिकार हो रहे हैं। पहले 45 से अधिक उम्र के लोगों में गंजेपन की समस्या होती थी पर अब तो 20 से 30 साल की उम्र में ही लोग गंजे हो रहे हैं।

पुरुषों के बालों के झड़ने को एंड्रोगैनेटिक, महिलाओं को सूडो एंड्रोगनेटिक से जाना जाता है। युवाओं में   बालों के झड़ने की आम समस्या खासकर तनाव, हार्मोनल बदवाल या अत्यधिक दवाओं के उपयोग से  होती है।

गंजेपन को मिटाने के लिए आज के समय में हेयर ट्रांसप्लांट सर्जरी और रेस्टोरेशन सर्जरी का बहुत ज्यादा इस्तेमाल होने लगा है। एसोसिएशन ऑफ हेयर रिस्टोरेशन सर्जन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष डॉ नरेश पटवर्धन कहते हैं, बाल झड़ने का पहला और सबसे महत्वपूर्ण कारक है लाइफस्टाइल। इसके अलावा आयरन की कमी, सूर्य के प्रकाश की कमी (विटामिन डी -3), तनाव, अनियमित आहार, हार्मोनल परिवर्तन और संबंधित बीमारियों जैसे थायराइड और मधुमेह अक्सर बालों के लिए खतरनाक होते हैं।

पटवर्धन का कहना है, 100 मरीजों में से कम से कम 30 आईटी जगत के होते हैं, जिनकी उम्र 25 से 35 साल के बीच है। इसके अलावा ज्यादातर कॉर्पोरेट और मीडिया व्यवसायों से होते हैं। बाल गिरने से वह सिर्फ गंजा ही नहीं होते है। इसके भावुक दुष्प्रभाव भी होते हैं। गंजा होने से व्यक्ति आत्मविश्वास कमजोर पड़ने लगता है।

मराठी एक्टर स्वप्निल जोशी का कहना है, "अगर मेरे बाल झड़ने लगें तो मुझे नींद ही नहीं आएगी।"

यही वजह है कि हरेक शहर में 'हेयर ग्रोथ क्लिनिक' तेजी से फैल रहे हैं। टीवी ऑन करते ही बाल बढ़ाने और नए बाल उगाने के तरह तरह के महंगे विज्ञापन चलते रहते हैं।

डॉ. अपूर्वा शाह ऐसे दावों के खिलाफ हैं। उनका कहना है, "बाल एक बार चले गए तो वापस कभी नहीं आते।" अपने बालों को बचाने का तरीका है कि आप केमिकल से दूर रहें। इसके अलावा प्रोटीन और एंटीऑक्सिडेंट फल, फ्लेक्ससेड्स, मछली और ब्राउन राइस को अपने खाने में इस्तेमाल करें। लेकिन  जब आपके बाल तेजी से झड़ें तो डॉक्टरों की देखरेख में इनका उपचार कराएं।

अक्सर हमारे बाल सिर के बीच से या आगे की तरफ से झड़ते हैं। हमारे साइड के बाल और पीछे के बाल बरकरार रहते हैं। FUT या फॉलिक्युलर यूनिट प्रत्यारोपण तकनीकि के द्वारा सिर के पीछे तरफ के बाल या साइड के बाल स्कल्प के साथ निकालकर गंजे वाले हिस्से में प्रत्यारोपित कर दिए जाते हैं। जो पूरे जीवनकाल बढ़ते रहते हैं। इसके अलावा FUE तकनीकि भी है। इसका चार्ज प्रति ग्राफ्ट 80/100 रुपए के बीच में होता है। इसके अलावा स्ट्रिप (एफयूटी) पद्धति की कीमत 80,000 रुपए से अधिक हो सकती है।

Loading Comments