Coronavirus cases in Maharashtra: 279Mumbai: 97Pune: 33Islampur Sangli: 25Nagpur: 16Pimpri Chinchwad: 12Kalyan-Dombivali: 6Ahmednagar: 5Thane: 5Navi Mumbai: 4Yavatmal: 4Vasai-Virar: 4Buldhana: 3Satara: 2Panvel: 2Kolhapur: 2Ulhasnagar: 1Aurangabad: 1Ratnagiri: 1Sindudurga: 1Pune Gramin: 1Godiya: 1Jalgoan: 1Palghar: 1Nashik: 1Gujrat Citizen in Maharashtra: 1Total Deaths: 10Total Discharged: 39BMC Helpline Number:1916State Helpline Number:022-22694725

2020 में फिर से चुनाव के लिए तैयार रहें- संजय निरुपम

पूर्व मुंबई अध्यक्ष और कांग्रेस नेता संजय निरुपम (SANJAY NIRUPAM) ने एक बार फिर से शिव सेना और कांग्रेस के बीच कथित रूप से बढ़ रही दोस्ती को लेकर सवाल खड़े किये हैं।

2020 में फिर से चुनाव के लिए तैयार रहें- संजय निरुपम
SHARE

महाराष्ट्र (Maharashtra) में जारी राजनीतिक उठापठक हर दिन नए-नए समीकरण की संभावना बन रही है। ताजा समीकरण के मुताबिक अब राज्य की सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी (BJP) ने सरकार बनाने से जहां इनकार कर दिया है तो वहीं शिव सेना (SHIV SENA) अब एनसीपी (NCP) और कांग्रेस (CONGRESS) के साथ मिल कर सरकार गठन के लिए नए संभावनाओं की तलाश कर रही है। इसी बीच पूर्व मुंबई अध्यक्ष और कांग्रेस नेता संजय निरुपम (SANJAY NIRUPAM) ने एक बार फिर से शिव सेना और कांग्रेस के बीच कथित रूप से बढ़ रही दोस्ती को लेकर सवाल खड़े किये हैं। एक ट्वीट में निरुपम ने कहा कि एक बार फिर से चुनाव के लिए तैयार रहना चाहिए, यह 2020 में हो सकता है। जबकि कांग्रेस के सूत्रों से यह खबर मिली है कि पार्टी बाहर से शिवसेना को समर्थन दे सकती है। 

निरुपम ने किया ट्वीट
सोमवार को संजय निरुपम ने ट्वीट करते हुए कहा कि, महाराष्ट्र में राजनीतिक अस्थिरता को खारिज नहीं किया जा सकता।2020 में फिर चुनाव होंगे। उन्होंने ट्वीट के आखिर में सवाल किया कि क्या हमें शिवसेना के साथ मिलकर चुनाव लड़ना चाहिए? 



इसके पहले भी निरुपम शिव सेना के साथ कांग्रेस के समर्थन देने की बात का विरोध कर चुके हैं, उन्होंने यहां तक कह दिया कि अगर कंग्रेस, शिव सेना का समर्थन करती है तो इससे कांग्रेस को ही नुकसान होगा, इसीलिए उनके झगड़े में कांग्रेस नहीं पड़ना चाहिए।

'कांग्रेस की बैठक पर नजर' 

इसी बीच एनसीपी प्रवक्ता और विधायक नवाब मलिक शिव सेना को समर्थन देने की बात पर कहा कि, हमारी भूमिका कांग्रेस को साथ लेकर चलने की है। आज दिल्ली में कांग्रेस के आला नेताओं की बैठक है, हमारी नजर उनकी बैठक पर रहेगी, बैठक के बाद ही हम दोनों साथ मिलकर निर्णय ले सकेंगे।  

पढ़ें: शिवसेना के नाटक में कांग्रेस को नहीं पड़ना चाहिए - संजय निरुपम

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें