वीर सावरकर देश के पहले प्रधानमंत्री होते तो पाकिस्तान अस्तित्व में नहीं आता- उद्धव ठाकरे

एक पुस्तक लॉन्च कार्यक्रम में शिवसेना पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कांग्रेस पर भी निशाना साधा

SHARE

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि अगर वीर सावरकर को देश का पहला प्रधानमंत्री बनाया जाता तो पाकिस्तान अस्तित्व में नहीं आता। उद्धव ने एक पुस्तक लॉन्च कार्यक्रम में कहा, "सावरकर एक सच्चे देशभक्त और राष्ट्रवादी थे। अगर वह प्रधानमंत्री बन गए होते तो वह देश को कभी विभाजित नहीं होने देते"। ठाकरे ने  कांग्रेस नेता राहुल गांधी और मणिशंकर अय्यर पर कटाक्ष करते हुए उद्धव ने कहा, वीर सावरकर जैसे किसी को बदनाम करने वाले लोगों को खुलेआम चप्पलों से पीटना चाहिए।

उद्धव ने कहा, "जो लोग सावरकर का अपमान करते हैं, उन्हें चप्पल से खुलेआम पीटा जाना चाहिये, सावरकर ने देश की आजादी के लिए अपनी जान दे दी। कुछ राजनेताओं ने उनके योगदान को मान्यता देने के बजाय उनकी आलोचना की। मैं शर्त लगाता हूं कि अगर मणिशंकर अय्यर कभी मुंबई आएंगे तो उनका सामना शिव सैनिकों और मुंबई के लोगों से होगा।"

कांग्रेस पर साधा निशाना


उद्धव ठाकरे ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा की  "कांग्रेसियों का कहना है कि नेहरू एक स्वतंत्रता सेनानी थे, क्योंकि वह जेल भी गए थे। मैं इससे इनकार नहीं कर रहा हूं, लेकिन जो यातना सावरकर ने 14 साल जेल में रहते हुए सहन की अगर नेहरु 14 मिनट भी झेल पाते तो मै उन्हे 'वीर' नेहरु कहकर बुलाउंगा" उद्धव ने विक्रम संपत द्वारा लिखी गई पुस्तक - "सावरकर - इकोज़ फ्रॉम ए फॉरगॉटेन पास्ट" का विमोचन किया। 

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें