Advertisement

टोल बढ़ाने को लेकर मनसे फिर हुई आक्रमक, राज्य सरकार का किया विरोध

मनसे ने कहा, वर्तमान में, लोग पहले से ही लॉकडाउन के कारण वित्तीय संकट से जूझ रहे हैं और अब ऊपर से टोल में वृद्धि करके आम लोगों पर अतिरिक्त बोझ डाला जा रहा है।

टोल बढ़ाने को लेकर मनसे फिर हुई आक्रमक, राज्य सरकार का किया विरोध
SHARES

राज ठाकरे (raj Thackeray) के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) ने गुरुवार को नवी मुंबई में शिवसेना (shivsena) की अगुवाई वाली महाविकास आघाड़ी (MVA) की सरकार के खिलाफ टोल शुल्क बढ़ाने के फैसले का विरोध किया है।

हाल ही में, महाराष्ट्र सरकार ने मुंबई के सभी एंट्री पॉइंट पर टोल शुल्क में वृद्धि की घोषणा की और इसे निर्णय को 1 अक्टूबर से लागू होने की बात कही। सरकार के इस निर्णय के खिलाफ MNS कार्यकर्ताओं ने ऐरोली टोल बूथ पर विरोध प्रदर्शन किया और राज्य सरकार के खिलाफ नारे लगाए। सरकार ने टोल में 5 रूपये से लेकर 25 रूपये तक की वृद्धि की है।

इस फैसले का विरोध करते हुए मनसे कार्यकर्ता ऐरोली टोल बूथ पर एकत्रित हुए।  जिससे वहां वाहनों का जाम लग गया। साथ ही इस दौरान लॉकडाउन (lock down) के नियमों की धज्जियां भी उड़ती दिखाई दी।

इस फैसले का विरोध करते हुए मनसे ने कहा, वर्तमान में, लोग पहले से ही लॉकडाउन के कारण वित्तीय संकट से जूझ रहे हैं और अब ऊपर से टोल में वृद्धि करके आम लोगों पर अतिरिक्त बोझ डाला जा रहा है।

मुंबई के प्रवेश बिंदुओं पर टोल शुल्क में वृद्धि की गई है और मासिक पास दर में भी वृद्धि की जाएगी। मुंबई लोकल ट्रेन सेवा आम लोगों के लिए बंद की गई है और टोल वृद्धि से मुंबई के लाखों यात्री प्रभावित होंगे।

इससे पहले, संदीप देशपांडे (sandip deshpande) सहित MNS कुछ नेताओं ने लॉकडाउन नियमों को धता बताते हुए लोकल ट्रेन में भी अवैध रूप से यात्रा की थी। उनकी मांग थी कि, आम लोगों के लिए भी लोकल ट्रेनें खोली जाएं, बसों में तो पहले से ही भीड़ हो रही है।

हालांकि इसके लिए कर्जत रेलवे पुलिस ने सभी को गिरफ्तार कर लिया और उन्हें कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने 14 दिनों की हिरासत में भेज दिया था। लेकिन बाद में सभी को जमानत पर रिहा कर दिया गया।

Read this story in English
संबंधित विषय
Advertisement