मलाड हादसे के बाद विपक्षी पार्टियों के निशाने पर बीएमसी


SHARE

विपक्षी दलों ने मंगलवार को महाराष्ट्र में शिवसेना और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) गठबंधन पर जमकर निशाना साधा।  सोमवार रात को मलाड इलाके में एक सुरक्षा दीवार दिर गई जिसमें अब तक 24 लोगों की मौत हो गई। जिसके बाद विपक्षी पार्टियों ने बीजेपी-शिवसेना गठबंधन पर जमकर निशाना साधा। विपक्ष ने मुंबई में बाढ़ के मुद्दे पर बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) को "भ्रष्ट" करार दिया।

एनसीपी नेता अजीत पवार

महाराष्ट्र विधानसभा मानसून सत्र में बोलते हुए, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेता अजीत पवार ने कहा कि शिवसेना की अगुवाई वाली बीएमसी को भंग कर दिया जाना चाहिए और राज्य सरकार को शहर पर शासन करने के लिए एक प्रशासक नियुक्त करना चाहिए।

उन्होने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा की "मानसून की तैयारियों के बारे में बीएमसी के बड़े दावे खोखले साबित हुए हैं। पहली बड़ी बारिश में ही लोगों का जीवन अस्त-व्यस्त हो गया। बीएमसी में भ्रष्टाचार को दूर करने के लिए यह आवश्यक है"


महाराष्ट्र विधान परिषद में विपक्ष के नेता

महाराष्ट्र विधान परिषद में विपक्ष के नेता, धनंजय मुंडे ने भी मुंबई में जलभराव को लेकर सत्तारूढ़ सरकार पर हमला किया।  मलाडा में हुए हादसे पर बोलते हुए उन्होने इस घटना के साथ साथ सड़कों, इमारतों और पुलों के लिए संरचनात्मक ऑडिट किए जाने की मांग की।

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे)

इससे पहले मंगलवार को, महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) ने भी भारी बारिश के कारण शहर में जलभराव के मुद्दे पर अपनी टिप्पणी को लेकर मुंबई के मेयर विश्वनाथ महादेश्वर पर हमला बोला था।

महादेश्वर ने कहा कि वह शहर में बारिश के कारण किसी भी समस्या को हल करने में असमर्थ थे, मनसे के प्रवक्ता संदीप देशपांडे ने मेयर पर तंज कसते हुए कहा कि उन्हें वास्तविकता देखने के लिए "उच्च शक्ति वाले चश्मे" की आवश्यकता है।

संबंधित विषय