शिल्पा शिंदे लड़ सकती हैं सांसद गोपाल शेट्टी के खिलाफ चुनाव?

यही नहीं उनकी लोकप्रियता एक अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि वे 2017 का बिगबॉस भी जीत चुकीं हैं। अब यह देखने वाली बात होगी कि शिल्पा शिंदे का स्टारडम बीजेपी के बड़े नेता गोपाल शेट्टी के सामने कितना टिक पाता है।

SHARE

मुंबई कांग्रेस बीजेपी को हराने के लिए उतनी माथापच्ची नहीं कर रही है जितनी माथापच्ची उत्तर पश्चिम सीट से उम्मीदवार खड़ा कराने के लिए कर रही है। इस समय उत्तर पश्चिम सीट को लेकर कांग्रेस पार्टी में अटकलों की आंधी बह रही है। अटकलों के अनुसार यह सीट कांग्रेस के लिए 'एक अनार सौ बीमार' वाली कहावत पर पूरी तरफ से फ़ीट बैठती है। यानी इस एक सीट पर मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरुपम, पूर्व मंत्री कृपाशंकर सिंह और राष्ट्रिय प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी, गुरुदास कामत की पत्नी या बेटा, जैसे कई नाम हैं। जबकि इसी के बगल उत्तर मुंबई सीट पर कोई नहीं जाना चाहता इसीलिए वहां से नयी नवेली कांग्रेस में आई 'अंगूरी भाभी' यानी शिल्पा शिंदे को चुनाव लड़वाया जा सकता है। हालांकि कोई कुछ भी कहें लेकिन इस सीट पर अंतिम मुहर अध्यक्ष राहुल गांधी की ही लगेगी। 

कांग्रेस के अंदरखाने ही घमासान?
चुनाव आयोग ने चुनाव की तारीख तय कर दी है, कांग्रेस की तरफ से राष्ट्रीय स्तर पर उम्मीदवारों की पहली लिस्ट भी जारी हो चुकी है। लेकिन मुंबई की उत्तर पश्चिम सीट को लेकर कांग्रेस के अंदरखाने ही घमासान मचा हुआ है। इस एक सीट को लेकर जहां संजय निरुपम भी अपने दावेदारी जता चुके हैं तो वहीं उनका विरोधी गुट इस सीट से निरुपम को दूर ही रखना चाहता है।इस सीट को लेकर रोज के रोज नए-नए उम्मीदवारों का नाम सामने आ रहा है।

कांग्रेस के लिए 'सेफ' सीट?
इस सीट के लिए पूर्व गृहमंत्री कृपाशंकर सिंह भी लालायित है। यही नहीं सिंह ने तो हाल ही में हुई एक बैठक में निरुपम पर तंज कसते हुए यहां तक कह दिया था कि निरुपम को उत्तर मुंबई से लड़ने का अनुभव है इसीलिए उन्हें उत्तर मुंबई से लड़ना चाहिए। जबकि इस सीट को लेकर दिवंगत दुरुदास कामत के ईमानदार कार्यकर्ताओं की मांग है कि यह सीट कामत की थी इसीलिए यहां से उनकी पत्नी या फिर बेटे को लड़ाया जाए।   

सूत्रों के अनुसार इस लोकसभा सीट में जोगेश्वरी पूर्व, दिंडोशी, गोरेगांव, वर्सोवा, अंधेरी पूर्व और अंधेरी पश्चिम जैसे इलाके आते हैं। यहां उत्तर भारतीयों की संख्या सबसे अधिक है और उनमें भी उत्तर भारतीय मुस्लिम अधिक हैं। मुस्लिम कांग्रेस के परंपरागत वोटर्स माने जाते हैं। इसीलिए संजय निरुम और कृपाशंकर सिंह जैसे उत्तर भारतीय नेताओं को यह सीट सेफ लग रही है।

जबकि उत्तर मुंबई सीट जहां से बीजेपी नेता गोपाल शेट्टी सांसद है, यह इलाका गुजराती बहुल है। इसके बाद यहां उत्तर भारतीय हैं। इस सीट से शेट्टी ने 2014 के इलेक्शन में संजय निरुपम को करारी मात दी थी। अगर संजय निरुपम यहां से लड़ कर फिर हार जाते हैं तो उनके राजनीतिक कैरियर पर ही सवाल निशान लग सकता है,  इसीलिए वे भी सेफ सीट की तलाश में हैं।

जीतेगा स्टारडम या राजनीति?
कयास लगाया जा रहा है कि उत्तर मुंबई सीट से कांग्रेस शिल्पा शिंदे को लड़वा सकती है जो कि आम लोगों में काफी फेमस भी हैं।  यही नहीं उनकी लोकप्रियता एक अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि वे 2017 का बिगबॉस भी जीत चुकीं हैं। अब यह देखने वाली बात होगी कि शिल्पा शिंदे का स्टारडम बीजेपी के बड़े नेता गोपाल शेट्टी के सामने कितना टिक पाता है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें