आदित्य ठाकरे सब देख रहे है!

पिता उद्धव ठाकरे के साथ साथ आदित्य ठाकरे भी आमतौर पर सरकारी मिटिंग और प्रेस कॉफ्रेस में दिखते है

  • आदित्य ठाकरे सब देख रहे है!
  • आदित्य ठाकरे सब देख रहे है!
  • आदित्य ठाकरे सब देख रहे है!
  • आदित्य ठाकरे सब देख रहे है!
SHARE

राज्य में लंबी खिंचतान के बाद आखिरकार उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में महाविकास आघाड़ी की सरकार बनी। ठाकरे परिवार से पहली बार किसी ने मुख्यमंत्री पद का कार्यभार संभाला। मुख्यमंत्री बनते ही उद्धव ठाकरे एक्शन मे दिखे और मेट्रो कारशेड को रद्द करने से लेकर बुलेट ट्रेन की परियोजना की समीक्षा तक के आदेश दे डाले , लेकिन इन सभी के बीच ऐक शख्स ऐसा भी है जो सब देख रहा है और समझ भी रहा है , जी हां हम बात कर रहे है उद्धव ठाकरे के बेटे और दिवंगत शिवसेना प्रमुख बालासाहेबे के पोते आदित्य ठाकरे की। आदित्य ठाकरे , ठाकरे परिवार से पहले सदस्य है जिन्होने विधानसभा चुनाव लड़ा और जीता। 

              (मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद शिवसेना पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे अपने परीवार के साथ)

आदित्य ठाकरे को शिवसेना के भावी नेतृत्व के तौर पर देखा जा रहा है , कहा जा रहा है उद्धव ठाकरे के बाद आदित्य ठाकरे ही शिवसेना का सारा कामकाज देखेंगे। ऐसे मे आदित्य ठाकरे को एक परिपक्व शिवसैनिक होने के साथ साथ एक मजा हुआ राजनेता भी होना जरुर है।यही वजह है की जब उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेने जा रहे थे तब कांग्रेस कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को आमंत्रित करने के लिए खुद आदित्य़ ठाकरे और उद्धव ठाकरे के बेहद करीबी मिलिंद नार्वेकर दिल्ली पहुंचे।दरअसल उद्धव ठाकरे आदित्य की पकड़ महाराष्ट्र के बाहर भी बनाना चाहते है।


शिवसेना स्थापक दिवंगत बालासाहेब ठाकरे ने शिवसेना की जो कमान उद्धव ठाकरे के हाथ में सौपी थी उस कमान को अब धीरे धीरे आदित्य ठाकरे थामते दिख रहे है।लिहाजा ये जरुरी हो जाता है की आदित्य ठाकरे को ये तो पता होना चाहिये की आखिर पार्टी मे किस तरह से काम किया जाता है लेकिन इसके साथ ही उन्हे इस बात की भी जानकारी होनी चाहिये की आखिरकार सरकार में बैठे लोग किस तरह से काम करते है।विधानसभा और विधान परिषद में किस तरह का कामकाज होता है।

                        ( एनसीपी प्रमुख शरद पवार का स्वागत करते आदित्य ठाकरे) 

चुंकी आदित्य ठाकरे संक्रिय राजनिती में हालही में आए है ,इस लिहाज से उन्हे राजनिती में अभी बहुत कुछ सिखना है।  पिता उद्धव ठाकरे किस तरह से मुख्यमंत्री पद का कामकाज संभाल रहे है , कैसे लोगों से मिल रहे है , सरकार किस तरह से काम करती है , विधानसभा और विधानरिषद किस तरह से काम होता , इन सभी बातों को आदित्य ठाकरे बड़े ही ध्यान से देखते और सुनते है। पिता उद्धव ठाकरे के साथ-साथ आदित्य ठाकरे भी आमतौर पर सरकारी मिटिंग और प्रेस कॉफ्रेस में दिखते है, ऐसा लगता है जैसे आदित्य़ ठाकरे राजनीति और सरकार के काम करने के हर पहलु को बड़े ही अच्छे तरीके से सिखना चाहते है।

                      ( मुख्यमंत्री और पिता उद्धव ठाकरे के साथ एक बैठक में आदित्य ठाकरे) 

आदित्य ठाकरे को ही पिता उद्धव ठाकरे की तरह वाइल्ड लाइफ का शौक है। पिता उद्धव ठाकरे कई बार वाइल्ड लाइफ की फोटोग्राफी करते देखे गए तो वही आदित्य ठाकरे भी वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफी में काफी व्यस्त रहते थे।  आदित्य की रुचि साहित्य में भी है। उनकी कविता संग्रह हिंदी और मराठी में भी छप चुका है। इसके अलावा उनके लिखे गए गीतों का एल्बम "उम्मीद" भी लांच हो चुका है। इन गीतों को कैलाश खेर, सुरेश वाडकर, शंकर महादेवन और सुनिधि चौहान जैसे दिग्गज गायकों ने अपनी आवाज दी है।आदित्य ठाकरे ने एलएलबी की भी पढ़ाई की है।



संबंधित विषय
ताजा ख़बरें