तैयार हो जाइए तीन मार्च को एक अभूतपूर्व नजारा देखने के लिए

 Marine Drive
तैयार हो जाइए तीन मार्च को एक अभूतपूर्व नजारा देखने के लिए
तैयार हो जाइए तीन मार्च को एक अभूतपूर्व नजारा देखने के लिए
तैयार हो जाइए तीन मार्च को एक अभूतपूर्व नजारा देखने के लिए
तैयार हो जाइए तीन मार्च को एक अभूतपूर्व नजारा देखने के लिए
See all

मुंबई - नेक्सा पी 1 पावरबोट भारतीय ग्रां पी समुद्री रेसिंग 3 मार्च से शुरू होगी। तीन दिनों तक चलने वाली यह रेस मरीन ड्राइव में आयोजित होगी। समुद्र की भारतीय ग्रां प्री नेक्सा पी1 पावरबोट के साथ खेल प्रेमी समंदर पर दुनिया के सर्वप्रथम रेस कोर्स पर सबसे तेज पुरुषों व महिलाओं को प्रतिस्पर्धा करते देखने का आनंद ले सकेंगे। इस आधुनिक और अनोखी रेसिंग में कई सारी तकनीकी खूबियां भी देखने को मिलेंगी। अपने आप में इस रेसिंग में सुरक्षा से संबंधित सभी उपाय तो किये ही गये हैं साथ ही डिजाइनर पतवार के साथ पर्यावरण का भी ध्यान रखा जाएगा। साथ ही इस रेस में डिजिटल दूरमापी यंत्र का उपयोग कर डेटा भी तैयार किया जाएगा। पहली रेस में जीतने वाले प्रतिभागी दूसरे दिन की रेस में भी हिस्सा ले सकेंगे।

समुद्र के इस भारतीय ग्रां प्री के रेस वीकेंड में 7 टीमें प्रतिस्पर्धा करेंगी, जहां प्रत्येक टीम में दो पी1 पैंथर पावरबोट शामिल होगी। हर पावरबोट को चलाने के लिए एक पायलट और नेविगेटर होगा, जो पहली बार पानी पर बने इसे पूर्व निर्धारित 5.2 किमी लंबे रेस ट्रैक में ऐसी ही अन्य बोट्स के साथ मुकाबला करेंगे। पोडियम टीमों का निर्णय दोनों बोट्स की संयुक्त श्रेष्ठ अवधि पर लिया जाएगा। जिसके लिए शनिवार 4 मार्च और रविवार 5 मार्च के ग्रैंड फाइनल की दोनों रेसों के बाद टीमों के पायलट्स और नेविगेटर की कुशलता के आधार पर फैसला होगा। इस इवेंट में विश्व के श्रेष्ठ पायलट और नेविगेटर हिस्सा लेंगे और यह रेस वीकेंड भारत का सबसे पहला ऐसा खेल कार्यक्रम का गवाह बनेगा जिसमें पुरुष एवं महिलाएं समान प्रतिभागियों के रूप में शामिल होंगे। प्रतियोगिता में विजेता का फैसला कुशलता और रणनीति के आधार पर होगा।

भारत की तरफ से इस खेल में सीएस संतोष चुनौती पेश करेंगे। संतोष की यह पहली रेसिंग है। महाराष्ट्र सरकार, मुंबई पोर्ट ट्रस्ट और विश्व की पांचवी सबसे बड़ी नौसेना कही जाने वाली भारतीय नौसेना के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित होने वाले इस रेसिंग को भारत सरकार और खेल एवं युवा मामलों के मंत्रालय द्वारा भी मान्यता प्राप्त है।

Loading Comments