अब कार का बीमा होगा जरुरी

बीमा ना होने पर ट्रैफिक पुलिस कार को जब्त कर सकती है

SHARE

राज्य परिवहन आयुक्त ने हाल ही में कहा कि यदि वाहन मालिक के पास कार का  बीमा नहीं है, तो ट्रैफिक पुलिस  या क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय (आरटीओ) के अधिकारी मौके पर वाहन को जब्त कर सकते हैं। वाहन का बीमा होने के बाद ही वाहन को सौंपा जाएगा।  टाइम्स ऑफ इंडिया में कहा गया है, राज्य परिवहन आयुक्त शेकर चन्ने ने कहा कि बीमा सड़क पर प्रत्येक वाहन का एक महत्वपूर्ण पहलू है। मुंबईकरों को वाहन का बीमा करवाना अनिवार्य होगा। 

उन्होंने आगे कहा कि कार डीलरों के पास किसी भी वाहन के ऑन-रोड मूल्य निर्धारण के एक भाग के रूप में बीमा है, लेकिन ऐसे खरीदार हैं जो 1-3 साल के बाद एक बार बीमा को नवीनीकृत करने में विफल रहते हैं।परिवहन विभाग ने अपने वॉहान सॉफ्टवेयर को राष्ट्रीय बीमा डेटाबेस से जोड़ा है, और अब अधिकारी अपने मोबाइल का उपयोग करके यह जांच सकते हैं कि क्या कार को उसके पंजीकरण नंबर में जी लगाकर बीमा किया गया है।

कैसे तय होता है बीमा मुल्य 

आपकी बीमा पॉलिसी का मूल्य IDV पर निर्भर करती है- आपकी गाड़ी की घोषित बीमा राशी, जो बीमा कंपनी द्वारा आपको भुगतान की जाने वाली अधिकतम बीमा राशी होती है; यह लगभग आपकी गाड़ी की बाजार कीमत के बराबर होती है। इसलिए, जब आप नई गाड़ी के लिए बीमा खरीदते हैं, तो IDV आकलित की जाती है जो शो-रूम के सूचीबद्ध मूल्य पर आधारित होती है। फिर भी, आपके कार की IDV स्थिर नहीं होती है। 

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें