प्राथमिकता सेट करना आवश्यक है और मैं इसे बाखूबी समझती हूं : माधुरी दीक्षित

अनिल कपूर के साथ मैंने बहुत सी फिल्में की हैं। वे जिस तरह से पहले थे आज भी वैसे ही हैं। उसी जोश के साथ वे सेट पर आते हैं सबको हंसाते हैं पूरी एनर्जी के साथ और काम करते हैं। वे वास्तव में जबर्दस्त एक्टर हैं।

SHARE

'धक धक गर्ल' के नाम से मशहूर माधुरी दीक्षित नेने ने 35 साल के अपने बॉलीवुड करियर में 'तेजाब','बेटा' 'हम आपके हैं कौन' जैसी कई हिट फिल्में दी हैं। फिल्म 'राजा' के बाद एक बार फिर अब वे कॉमेडी का तड़का लगाने के लिए तैयार हैं। जी हां माधुरी दीक्षित इंद्र कुमार की हिट फ्रैंचायजी 'धमाल' का हिस्सा बनीं है। 'टोटल धमाल' में माधुरी अनिल कपूर और अजय देवगन के साथ नजर आने वाली हैं। फिल्म 22 फरवरी को रिलीज होगी। फिल्म की रिलीज से पहले 'मुंबई लाइव' ने माधुरी से खास मुलाकात की। इस दौरान माधुरी ने फिल्म और निजी जीवन से जुड़े सवालों का बेबाकी से जवाब दिया। 

राजा फिल्म के बाद यह पहला मौका है जब आपको भरपूर कॉमेडी करने का मौका मिला, कैसा रहा अनुभव

इंदु जी (इंद्र कुमार) के साथ ‘राजा’ के बाद, अनिल जी (अनिल कपूर) के साथ ‘पुकार’ के बाद और अजय देवगन के साथ ‘ये रास्ते हैं प्यार के’ बाद, अरशद वारसी के साथ ‘डेढ़ इश्किया’ के बाद और जॉनी लीवर के साथ तो बहुत सारी फिल्में कर चुकी हूं। यह पूरा ग्रुप ऐसा था जिनके साथ मैं बहुत कंफर्टेबल थी, रितेश के साथ पहले काम नहीं किया था, पर मैं उन्हें अच्छे से जानती थी।

 

टोटल धमाल के सेट पर सबसे ज्यादा धमाल किसने मचाया?

अनिल कपूर के साथ मैंने बहुत सी फिल्में की हैं। वे जिस तरह से पहले थे आज भी वैसे ही हैं। उसी जोश के साथ वे सेट पर आते हैं सबको हंसाते हैं पूरी एनर्जी के साथ और काम करते हैं। वे वास्तव में जबर्दस्त एक्टर हैं।


उम्र का आप पर कोई असर नहीं दिखता, आज भी आप उतने ही खूबसूरत और फिट कैसे हैं?

मैं हैल्दी लाइफस्टाइल अपनाती हूं, हैल्दी खाना खाती हूं और मेरी कोई बुरी आदते नहीं हैं। एक्सरसाइज और डांस भी नियमित करती हूं।


आप एक्ट्रेस होने के साथ साथ एक पत्नी और मां भी हैं, कैसे मैनेज करती हैं

सबसे जरूरी है प्राथमिकता सेट करना, मुझे पता है कि मेरी प्राथमिकता क्या है, उस हिसाब से मैं काम करती हूं। जैसा कि पहले मैंने मराठी फिल्म की उस समय हिंदी नहीं की अब 2 हिंदी फिल्में कर रही हूं। तो वही है आपको अपना समय हर जहग देना होता है।

 

डबल धमाल में आपकी एंट्री होने के बाद धमाल फ्रैंचायजी का हिस्सा रहे संजय दत्त बाहर हो गए?

शायद ‘कलंक’ में आ रहे हैं। यह तो डायरेक्टर-प्रोड्यूसर के ऊपर निर्भर करता है कि उन्होंने किस तरह के किरदार तैयार किए हैं। इसकी शिकायत आपको प्रोड्यूसर-डायरेक्टर से करनी चाहिए।

 

सुना है लोकसभा चुनाव में आप पुणे से उतरने वाली हैं

यह खबर एक कॉमेडी के अलावा कुछ नहीं है। राजनीति और मेरा कोई मेल ही नहीं है।


आपने 35 साल इस इंडस्ट्री को दिए हैं, अब कितना बदलाव देखती हैं?

निश्चित रूप से बदलाव बहुत सारे हैं। पहले अनुशासन नहीं था, गिने चुने प्रोडक्शन हाउस जैसे यशराज, राजश्री और राकेश रोशन का प्रोडक्शन ही अनुशासन के साथ काम करता था। बाकि की तो कभी शूटिंग शुरु नहीं होती थी। शूटिंग शुरु हो गई तो फिल्म बीच में ही रुक जाती थी। पर आज ऐसा नहीं है अब इंडस्ट्री काफी ऑर्गनाइज्ड हो गई है। स्क्रिप्ट रेडी होती है आपके डायलॉग्स और लुक्स आपको पहले से मिल जाते हैं। जो एक एक्टर के लिए बहुत हेल्पफुल होता है।    

    

संबंधित विषय