Advertisement

'सुपर 30' की कनाडा में स्पेशल स्क्रीनिंग, विदेश में भी जीता सबका दिल!

आनंद कुमार और उनके भाई प्रणव कुमार को फिल्म की विशेष स्क्रीनिंग के लिए विशेष रूप से आमंत्रित किया गया था। साथ ही उन्हें कंपनी दे रहे थे, डॉ. बीजू मैथ्यू जो कि पुस्तक 'सुपर 30' के लेखक और ब्रिटिश कोलंबिया के गणमान्य व्यक्ति हैं।

'सुपर 30' की कनाडा में स्पेशल स्क्रीनिंग, विदेश में भी जीता सबका दिल!
SHARES

भारत में अभूतपूर्व प्रतिक्रिया और सफलता प्राप्त करने के बाद, 'सुपर 30' जो गणितज्ञ और सुपर 30 के संस्थापक आनंद कुमार की प्रेरणादायक यात्रा पर आधारित है, उसकी एक विशेष स्क्रीनिंग शुक्रवार के दिन कनाडा के वैंकूवर में आयोजित की गई थी। फिल्म की विशेष स्क्रीनिंग के दौरान शहर के तमाम बड़े नाम वहाँ उपस्थित थे जो फ़िल्म की प्रशंसा करते हुए नज़र आये।

आनंद कुमार और उनके भाई प्रणव कुमार को फिल्म की विशेष स्क्रीनिंग के लिए विशेष रूप से आमंत्रित किया गया था। साथ ही उन्हें कंपनी दे रहे थे, डॉ. बीजू मैथ्यू जो कि पुस्तक 'सुपर 30' के लेखक और ब्रिटिश कोलंबिया के गणमान्य व्यक्ति हैं। इनके अलावा, इस खास मौके पर पर्यटन, कला और संस्कृति मंत्री लीसा बेयर, संसद के सदस्य दान रुइमी और अन्य विशिष्ट अतिथि स्क्रीनिंग की शोभा बढ़ाते हुए नज़र आये। फिल्म की स्क्रीनिंग के बाद दोनों को पट्टिकाएं भी भेंट की गईं।

फिल्म की स्क्रीनिंग के बाद वैंकूवर के एसीटी सेंटर में इंटरव्यू सेशन का भी आयोजन किया गया था। इस दौरान आनंद ने अपने व्यक्तिगत सफ़र, ’सुपर 30’ कार्यक्रम की सफलता, पुस्तक बनाने और फिर प्रेरणादायक फिल्म से जुड़े सभी सवालों के जवाब दिए।

आनंद कहते है,“मैं भारत से दूर अंग्रेजी उपशीर्षक के साथ एक हिंदी फिल्म के लिए आयोजित सभा की प्रतिक्रिया को देखकर वास्तव में अभिभूत महसूस कर रहा हूं। इतनी बड़ी सराहना और लगातार बज रही तालियाँ, मेरे लिए एक भावनात्मक क्षण है, जो मुझे विश्वास है कि इस तथ्य को साकार करता है कि संदेश और भावनात्मक अपील अक्सर भाषा बाधाओं को पार कर जाती है। यह ये भी दर्शाता है कि लोग सकारात्मक बदलाव में कैसे योगदान देना चाहते हैं।"

आनंद ने कहा कि फिल्म ने स्थायी सामाजिक परिवर्तन और एक छात्र के जीवन में शिक्षक के महत्व के रूप में शिक्षा की विशाल शक्ति को रेखांकित किया है। वंचित बच्चों को विशेषाधिकार लोगों से केवल एक चीज की जरूरत है और वो है "एक मौका", ”उन्होंने कहा।

सांस्कृतिक मंत्री ने कहा कि आनंद और 'सुपर 30' की प्रेरक कहानी सभी के लिए एक संदेश है कि यदि जुनून के साथ पीछा किया जाए तो सकारात्मक बदलाव हासिल किया जा सकता है।

संसद के सदस्य डैन रुइमी ने कहा कि कनाडा में भी वंचित बच्चों की हिस्सेदारी है और यह फिल्म उन लोगों के लिए सही प्रेरणा थी जो वंचितों लोगों के लिए सामाजिक परिवर्तन में योगदान करना चाहते थे।  "फ़िल्म में यह दिखाया गया है कि क्या किया जा सकता है और कैसे," उन्होंने कहा।

भारत के प्रसिद्ध अभिनेताओं में से एक ऋतिक रोशन द्वारा अभिनीत "सुपर 30", आनंद कुमार के संघर्ष और उपलब्धि की कहानी है और एक व्यक्ति वंचित छात्रों के जीवन में कैसे बदलाव ला सकता है, यह इस फ़िल्म में खूबसूरती के साथ दर्शाया गया है।

मेपल रिज-पिट मीडोज न्यूज पब्लिशर, लिसा क्रेक ने लोगों से भरे ऑडिटोरियम में एक लाइव शो का आयोजन किया था। कार्यक्रम के माध्यम से उत्पन्न राशि, रिज मीडोज अस्पताल फाउंडेशन को जाएगी।

डॉ बीजू मैथ्यू ने कहा कि यह आनंद की प्रेरक कहानी थी जिसने उन्हें उनके प्रेरक सफ़र पर एक किताब लिखने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा, "मुझे खुशी है कि उनकी कहानी ने दूसरों को प्रेरित करने के लिए एक फिल्म के रूप में भी अच्छा प्रदर्शन किया है।"

संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें