Advertisement

रेसिडेंट्स और ट्रेडर्स की मांग, फिल्म ‘पहाड़गंज’ पर लगे प्रतिबंध

फिल्म का उद्देश्य दर्शकों को काल्पनिक पात्रों और घटनाओं से अवगत कराना है। हालांकि, पूरा मामला तब बिगड़ा जब रेजिडेंट्स वेलफेयर एसोसिएशन ऑफ पहाड़गंज ने फिल्म के प्रोडक्शन हाउस सेन (SENN) प्रोडक्शंस को कानूनी नोटिस भेजा और ‘पहाड़गंज’ में विरोध प्रदर्शन किया।

रेसिडेंट्स और ट्रेडर्स की मांग, फिल्म ‘पहाड़गंज’ पर लगे प्रतिबंध
SHARES

‘पहाड़गंज: भारत का छोटा एम्स्टर्डम’ का ट्रेलर हाल ही में रिलीज हुआ है। ट्रेलर को लाखों की तादाद में प्रतिक्रियाएं मिली हैं। बहुत सारे लोगो ने उसे पसंद किया हैं। हालांकि, पहाड़गंज के निवासियों ने कहा कि फिल्म ‘पहाड़गंज’ को नकारात्मक रोशनी में दर्शाती है और इसके रिलीज होने पर रोक लगनी चाहिए।

फिल्म का उद्देश्य दर्शकों को काल्पनिक पात्रों और घटनाओं से अवगत कराना है। हालांकि, पूरा मामला तब बिगड़ा जब रेजिडेंट्स वेलफेयर एसोसिएशन ऑफ पहाड़गंज ने फिल्म के प्रोडक्शन हाउस सेन (SENN) प्रोडक्शंस को कानूनी नोटिस भेजा और ‘पहाड़गंज’ में विरोध प्रदर्शन किया।

RWA ने फिल्म की रिलीज़ पर प्रतिबंध लगाने का आह्वान किया क्योंकि इससे उनके लिए अपूरणीय क्षति और चोट लगने की संभावना है। उन्होंने निर्माता से फिल्म से पहाड़गंज इलाके के सभी संदर्भों को हटाने का आह्वान किया है। उन्होंने कहा, हमारी मांग के अनुसार जब तक फिल्म का टाइटल नहीं बदला जायेगा, यह फिल्म रिलीज़ नहीं होगी>

प्रोटेस्ट के दोरान, (RWA) आर डब्ल्यू ए ने कहा कि फिल्म स्थानीयता और उसके निवासियों को व्यक्तिगत और व्यावसायिक दोनों नुकसान पहुंचाएगी। उन्होंने चिंता व्यक्त की हैं कि फिल्म का टीज़र हत्या, नशीली दवाओं के सौदे, और इलाके में अन्य अवैध गतिविधियों को प्रदर्शित करके स्थान की लोकप्रियता को बदनाम कर रहा है। ट्रेडर एसोसिएशन के साथ आरडब्ल्यूए और निवासियों ने फिल्म के पोस्टर के अलावा निर्देशक के पुतले को भी जलाया।

संबंधित विषय
Advertisement