इस साल भारतीय बैंको के एनपीए में 1.9 फीसदी की बढ़ोत्तरी

भारतीय बैंको के एनपीए में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही है

इस साल भारतीय बैंको के एनपीए में 1.9 फीसदी की बढ़ोत्तरी
SHARES

कोरोना के संक्रमण का असर भारत के साथ साथ पूरी दुनियां में फैल चुका है। कोरोना ने पूरी दुनिया को जाम कर दिया है।  यह विश्व अर्थव्यवस्था को प्रभावित करने वाला है। कोरोना के कारण  भारत की अर्थव्यवस्था को बड़ा झटका लगेगा।  क्रेडिट रेटिंग कंपनी एसएंडपी ग्लोबल रेटिंग्स के मुताबिक, पहली तिमाही में भारत के बैंकों का एनपीए (गैर-उत्पादक संपत्ति) 1.9 प्रतिशत बढ़ेगा।


एसएंडपी ग्लोबल की रिपोर्ट के अनुसार, चीन में बैंकों के एनपीए में 2 प्रतिशत की वृद्धि होगी और क्रेडिट लागत में 100 बेसिक अंको की  वृद्धि होगी।  कोरोना के कारण, एशिया-प्रशांत देशों के ऋण निवेश में 30000 करोड़ डॉलर (लगभग 23 लाख करोड़ रुपये) की वृद्धि होगी।  इसके अलावा, एनपीए में 60 हजार करोड़ अमेरिकी डॉलर (लगभग 46 लाख करोड़ रुपये) की वृद्धि होगी।


मार्च में, भारतीय रिजर्व बैंक ने क्रेडिट पॉलिसी की समीक्षा में रेपो दर को 0.75 प्रतिशत से घटाकर 4.40 प्रतिशत कर दिया था।  परिणामस्वरूप, रिज़र्व बैंक ने कहा था कि बैंकों को नकद आरक्षित अनुपात में कटौती के अलावा अन्य उपायों के माध्यम से 3.74 लाख करोड़ रुपये उपलब्ध कराए गए थे।  इसके अलावा, रिजर्व बैंक ने सभी टर्म लोन पर तीन महीने के निलंबन की घोषणा की थी।


मार्च में भारत के सेवा क्षेत्र के उत्पादन में गिरावट आई।  एक मासिक सर्वेक्षण के अनुसार, कोरोना वायरस के संकट के कारण मांग में कमी के कारण सेवा क्षेत्र में ऐसी स्थिति पैदा हुई है।  कोरोना अफ्रीका में 2 करोड़ नौकरियों को खोने की आशंका है।  अफ्रीकी टीम ने यह जानकारी दी।  सर्वेक्षण के अनुसार, देश में सेवाओं की मांग भी कोरोना वायरस से प्रभावित हुई है।  सितंबर 2019 के बाद पहली बार सेवा क्षेत्र में भारतीय कंपनियों के ऑर्डर बुकिंग में गिरावट आई है।




संबंधित विषय