SHARE

राज्य में शिवसेना कांग्रेस और एनसीपी कै सरकार बनने के साथ ही राज्य में महाविकास आगाड़ी की सरकार बनी। हालांकी अब   मुंबई जिला सहकारी बैंक(Mumbai District Central Co-operative Bank)  के चुनाव में भी इस महाविकास आघाड़ी(MVA) का दबदबा दिख सकता है।   मुंबई जिला सहकारी बैंक के चुनाव में तीनों पार्टियों के एक साथ मिलकर चुनाव लड़ने के आसार बन रहे है।  फिलहाल इस बैंक के बीजेपी(BJP)की सत्ता है।  

बीजेपी के पैनल ने जीता था पिछला चुनाव
मनसे ने बीजेपी में प्रवेश करनेवाले प्रविण दरेकर (PRAVIN DAREKAR)के नेतृत्व में पिछलें चुनावो में उनका पैनल जीता था। 21 संचालको के लिए हुए पिछलें चुनाव में शिवसेना(SHIVSENA)ने स्वतंत्र पैनल खड़ा किया था।  तो वही दूसरी ओर शिवसेना के साथ कांग्रेस(CONGRESS) और एनसीपी(NCP) का पैनल था।  चुनाव में शिवसेना के 4 संटालक चुनकर आए तो वही बैंक की सत्ता बीजेपी के पास चली गई। 

पूरजोर कवायद शुरु
अब राज्य में राजनितीक समीकरण बदल गए है। जिला परिषद और स्थानिक स्वराज्य संस्थाओं के चुनाव में शिवसेना -कांग्रेस और एनसीपी की महाविकास आघाड़ी ने जीत दर्ज किया है। जिसे देखते हुए अब तीनों ही पार्टियों के नेताओं ने मुंबई जिला सहकारी बैंक के चुनाव में साथ मिलकर लड़ने के पूरजोर कवायद शुरु कर दी है। तीनों ही पार्टियों ते नेताओं ने इसे लेकर बातचीत भी हो रही है।


पिछलें बार के चुनाव में शिवसेना ने अकेले चुनाव लड़ा था, लेकिन इस बार परीस्थिती अलग है, राज्य में शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी की महाविकास आघाड़ी सरकार है , शिवसेना के साथ साथ कांग्रेस और एनसीपी के नेताओं को महाविकास आघाड़ी पैनल खड़ा कर  एक साथ बैंक का चुनाव लड़ना चाहिये-  शिवसेना विधायक सुनील राऊत


मुंबई जिला सहकारी बैंक के पिछलें चुनाव में शिवसेना के विधायक  सुनील राऊत(SUNIL RAUT)ने नेतृत्व में शिवसेना के पैनल को खड़ा किया गया था।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें