5 सालों में मैनहोल या नालों में गिरने पर 328 मुंबईकरों की मौत- आरटीआई

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, कुल 328 व्यक्तियों की मृत्यु हुई है, जिनमें से 237 पुरुष और 91 महिलाएं हैं।

SHARE

पिछले 5 वर्षों में एक खुले मैनहोल में फिसलने या समुद्र में डूबने से कुल 328 मुंबईकरों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। बीएमसी ने एक आरटीआई के जवाब में यह आकड़ा दिया है। आरटीआई कार्यकर्ता शकिल अहमद शेख ने इन आकड़ों के लिए एक आरटीआई फाइल की थी। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, कुल 328 व्यक्तियों की मृत्यु हुई है, जिनमें से 237 पुरुष और 91 महिलाएं हैं।


इसके साथ ही इस आरटीआई में इस बात का भी खुलासा हुआ है की 167 लोगों को मैनहोल या फिर नाले में गिरने से गंभीर चोट आई है। घायलों में 122 पुरुष और 45 महिलाएं हैं, जो बीएमसी द्वारा जारी आधिकारिक आंकड़े हैं। आंकड़ों के अनुसार, वर्ष 2017 में ऐसी घटनाओं में कम से कम 78 व्यक्तियों की जान चली गई।

आकड़ों से पता चलता है कि जुलाई 2018 तक कम से कम 42 मौतें दर्ज की गई थीं। इसके साथ ही 2018 में 21 लोग गंभीर रुप से घायल हो गए थे। गुरुवार की घटना का जिक्र करते हुए, जिसमें एक लड़का गटर में गिर गया, शकिल अहमद शेख ने कहा, "बीएमसी को पीड़ित और उसके परिवार को मौद्रिक मुआवजा देना चाहिए और  अधिकारियों और कमिश्‍नर के खिलाफ मामला दर्ज करना चाहिए। ”

यह भी पढ़े- मौत के साये में रहने को मजबूर लोग, बीएमसी और इमारत मालिक नहीं कर रहे कार्रवाई

संबंधित विषय