अंधेरी ब्रिज गिरने के एक साल बाद भी सेंट्रल और वेस्टर्न को नहीं मिली आईआईटी-बी की 445 ब्रिज की रिपोर्ट

निरीक्षण दल ने देरी के लिए मुंबई के स्थानीय रेल नेटवर्क की विशालता का हवाला दिया है और कहा था कि ऑडिट रिपोर्ट के शेष हिस्से दो महीनों के भीतर प्रस्तुत किए जाएंगे।

SHARE

अंधेरी रेलवे स्टेशन पर गोखले पुल को कोलैप्स हुए एक साल हो गया है, बावजूद इसके सेंट्रल और वेस्टर्न रेलवे को अभी भी मुंबई के पुलों की स्थिति की पूरी ऑडिट रिपोर्ट प्राप्त नहीं हो सकी है।

जबकि भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान-बॉम्बे, जिसने ऑडिट किया था, उसने गंभीर हालत में सड़क और फुट ओवरब्रिज की रिपोर्ट प्रस्तुत की है, शेष पुल संरचनाओं पर पूरी रिपोर्ट का अभी भी इंतजार है।  केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने दोनों जोनल रेलवे और आईआईटी-बी को छह महीने के भीतर शहर में पुलों की स्थिति पर विस्तृत रिपोर्ट देने को कहा था।

निरीक्षण दल ने देरी के लिए मुंबई के स्थानीय रेल नेटवर्क की विशालता का हवाला दिया है और कहा था कि ऑडिट रिपोर्ट के शेष हिस्से दो महीनों के भीतर प्रस्तुत किए जाएंगे। जबकि अंधेरी कोलैप्स के तुरंत बाद 3 जुलाई, 2018 को गोयल ने निरीक्षण का आदेश दिया था। मुंबई में सभी 445 पुल संरचनाओं, जिनमें रोड ओवर ब्रिज, फुट ओवर ब्रिज और रेलवे पटरियों से सटे पुल शामिल हैं।

नाम ना जाहिर करने की शर्त पर सेंट्रल रेलवे के एक सीनियर ऑफिसर ने कहा, हमें आईआईटी से महत्वपूर्ण पुलों की रिपोर्ट मिली है।  महत्वपूर्ण पुलों पर तुरंत कार्रवाई की गई है।  पर हमें अभी तक सभी पुलों की पूरी रिपोर्ट नहीं मिली है।

आईआईटी ने कहा कि सभी पुलों की रिपोर्ट जिनमें प्रमुख चिंताएं थीं, प्रस्तुत की गई हैं।  पुल की ऑडिट का संचालन करने वाली आईआईटी समिति की चेयरपर्सन प्रदीप बनर्जी ने कहा, रिपोर्ट उन पुलों के बारे में लंबित है, जिनमें सुरक्षा संबंधी कोई बड़ी समस्या नहीं है।

आईआईटी के एक अधिकारी जो कि निरीक्षण टीम के हिस्सा थे उन्होंने ने कहा, रेलवे के पास एक विशाल नेटवर्क है और हर पुल की संरचना पर सभी विवरणों वाले 25 पृष्ठों की रिपोर्ट तैयार की जा रही है।  रिपोर्ट को दो महीने के भीतर सेंट्रल और वेस्टर्न रेलवे को सौंप दिया जाएगा।

ऑडिट के हिसाब से वेस्टर्न रेलवे ने जुलाई 2018 में लोअर परेल के डेलिसल पुल को जनता  के लिए बंद कर दिया और नष्ट कर दिया था, वहीं सेंट्रल रेलवे ने कल्याण के पास पटरी पुल के लिए भी यही किया।  घाटकोपर, करी रोड, बाइकुला और आर्थर रोड पर भी कार्रवाई की गई है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें