Advertisement

मुंबई में 98 फिसदी बर्फ दूषित !

410 नमूनों में से 400 नमूने दूषित पाए गए। बर्फ के सही रखरखाव ना होने के कारण इन बर्फ में ई -कोला नाम का वायरस पैदा हो जाता है।

मुंबई में 98 फिसदी बर्फ दूषित !
SHARES

अगर आप भी आईस्क्रीम खाने के शौकिन है तो ये खबर आपको हैरान कर सकती है।  जी हां , मुंबई में खाए जानेवाले बर्फ का एक बड़ा हिस्सा दूषित होता है , जोना ही सिर्फ  आपके सेहत के लिए नुकसान दायक है , बल्की इससे आपको कई तरह की बीमारियां भी हो सकती है।   मुंबई में पैसा बनाने के नाम पर दुकानदार  बर्फ के नाम पर रोग फैला रहे है।  

बीएमसी  के स्वास्थ्य विभाग ने शहर में होटल, रेस्तरां, जूस की दुकानों से बर्फ के नमूने लिये थे, जिसकी जांच में ये बात सामने आई है की इन बर्फ में  9 8 प्रतिशत से अधिक नमूने दूषित पाए गए थे। यानी की इन बर्फ के सेवन से हमे कई तरह की खतरनारक बीमारियां हो सकती है।  


महिला के पेट में से निकला 2.75 किलो का गांठ

 
400 नमूने दूषित 

बीएमसी स्वास्थ्य विभाग द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार र्फ की गुणवत्ता जानने के लिए 1 मार्च से 31 मार्च तक कई स्थानों से 410 नमूनों को एकत्र किया गया था। इन नमूनों को सड़क विक्रेताओं की दुकानों, होटल, रेस्तरां और बर्फ की दुकानों में से लिया गया था।  410 नमूनों में से 400 नमूने दूषित पाए गए। बर्फ के सही रखरखाव ना होने के कारण इन बर्फ में  ई -कोला नाम का वायरस पैदा हो जाता है।  


धूम्रपान छोड़ने में अब सरकार करेगी मदद, सिगरेट के पैकेट पर होगा हैल्पलाइन नंबर!

 "ई कोला वायरस लोगों को फेफड़े और आंतों की समस्याओं  का कारण बन सकता है, जिससे न्यूमोनिया हो सकता है, इसलिए खाद्य और पेय पदार्थों को साफ और  विशेष देखभाल की जानी चाहिए।"- पेट रोग विशेषज्ञ डॉ. अविनाश सुपे 


बीएमसी की  कार्यकारी आरोग्य अधिकारी डॉ. पद्मजा केसकर का कहना है की "हमने बर्फ की गुणवत्ता जानने के लिए कई नमूने एकत्र किए, जिनमें से 9 8 प्रतिशत बर्फ दूषित पाया गया, जो शरीर के लिए हानिकारक है और बर्फ-जांच अभियान जारी रहेगा।"

Read this story in मराठी or English
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें