Advertisement

अंधेरे में जिंदगी बिताने को मजबूर चेंबूर के 10,000 से अधिक परिवार

AEML ने कहा कि कॉलोनी से 77 करोड़ से अधिक का बिल 14 वर्षों से हो गया है।

अंधेरे में जिंदगी बिताने को मजबूर चेंबूर के 10,000 से अधिक परिवार
SHARES

चेंबूर के सिद्धार्थ कॉलनी में  10,000 से अधिक परिवारअडानी इलेक्ट्रिसिटी मुंबई लिमिटेड (एईएमएल) द्वारा बुधवार को बिजली की आपूर्ति काट दिए जाने के बाद अंधेरे में रह रहे हैं। AEML ने कहा कि कॉलोनी से 77 करोड़ से अधिक का बिल 14 वर्षों से हो गया है। रहीवासियों का कहना है की बुधवार को 4.30 बजे बिजली काट दी गई।  


बिजली चली जाने से स कॉलनी में रहनेवालों की हालत दिन बा दिन खराब होती जा रही है।  निवासी अपने घरों में मुश्किल से सांस ले पा रहे है। रहीवासी अपने अपने घरों की बालकनी में सो रहे है।  जून 2018 में, AEML के पूर्ववर्ती रिलायंस एनर्जी द्वारा कॉलोनी को बिजली की आपूर्ति काट दी गई थी। राज्य सरकार के हस्तक्षेप के बाद ही आपूर्ति बहाल की गई।

हालांकी एईएमएल के प्रवक्ता ने कहा कि उन्होंने समयसीमा को बढ़ाकर 22 दिसंबर, 2018 कर दिया थालेकिन आज तक  निवासियों से कोई भुगतान नहीं किया है।  रहीवासियों का कहना है की उनकी कमाई बेहत ही कम है तो लिहाजा तो अपनी कमाई में कैसे इतनी बड़ी रकम भर सकते है।  निवासियों का कहना है की    बिल्डर ने अपनी कॉलोनी के पुनर्विकास के लिए सहमति के बदले में  बिजली के बकाया को भूगतान  करने के लिए सहमति व्यक्त की थी।

AEML
के प्रवक्ता का कहना है की जैसी ही बिजली के बिल का भूगतान हो जाएगा ,बिजली फिर से वापस आ जाएगी।  

संबंधित विषय
Advertisement