मुंबई की सड़क का ठेका फिर से पुरानी कंपनी को

 BMC
मुंबई की सड़क का ठेका फिर से पुरानी कंपनी को
मुंबई की सड़क का ठेका फिर से पुरानी कंपनी को
See all

मुबई में पिछले साल हुए सड़क घोटाला को लेकर मनपा के दो अधिकारी समेत कुल 24 लोगों की गिरफ्तारी हुयी थी और ठेकेदार और उसकी कंपनी को ब्लैक लिस्ट कर दिया गया था। लेकिन अब फिर से कई कम्पनियों को ठेका दिया गया है जो कि पहले से कार्य कर चुकी हैं।

मुंबई की सड़कों पर होने वाले गड्ढे और उससे होने वाली परेशानी को ध्यान में रखते हुए बीएमसी इस समय 450 ख़राब हो चुकी सड़कों के मरम्मत का कार्य चालू किया है। लगभग 400 करोड़ रूपये का यह ठेका भारत कंट्रक्शन कंपनी, प्राईम डेव्हलपर्स, प्रगती एंटरप्रायझेस, कोणार्क स्ट्रक्चरल लिमिटेड, रुपेश कॉर्पोरेशन एण्ड इन्फ्राप्रोजेक्ट, ट्रान्स कन्डक्ट इंडिया, एपीआय सीव्हीलकॉन- बिटकॉन इंडिया इन्फ्रास्ट्रक्चर आदि कम्पनी को दिया गया है।

इन कम्पनियों में ट्रांस कंडक्ट इंडिया नयी कंपनी है और भारत कंट्रक्शन व रुपेश कॉर्पोरेशन दोनों कम्पनियां काफी समय बाद पालिका में फिर से आई हैं। भारत कंट्रक्शन को कम से कम 10 से 12 साल तक ठेका मिला है। खराब सड़क के लिए जिन छह कंपनियों पर कार्रवायी की गयी थी उनमें के.आर. कंट्रक्शन कंपनी भी शामिल थी। लेकिन अब के.आर. कंट्रक्शन कम्पनी सहित इसकी सहयोगी कंपनी प्रगती आणि कोणार्क को भी ठेका मिला है।

रात में आया प्रस्ताव दुसरे दिन हुआ मंजूर

बीजेपी का आरोप है कि मुंबई की ख़राब सड़कों के मरम्मत के लिए प्रस्तावित बिल को बैठक में रात के समय पेश किया गया और दुसरे दिन ही इसे मंजूरी दे दी गयी। एक तरफ भ्रष्टाचार की चर्चा हो रही है और दूसरी तरफ 400 करोड़ का ठेका पास हो गया।

किस कम्पनी को कौन सा एरिया मिला है-

परिमंडळ 1 के अंतर्गत सड़क के गड्ढे भरने का काम : भारत कंट्रक्शन कंपनी
परिमंडळ 2 के अंतर्गत सड़क के गड्ढे भरने का काम : प्राईम डेव्हलपर्स
परिमंडळ 3 अंतर्गत सड़क के गड्ढे भरने का काम: प्रगती एंटरप्रायझेस
परिमंडळ 4 अंतर्गत सड़क के गड्ढे भरने का काम : कोणार्क स्ट्रक्चरल लिमिटेड
परिमंडळ 7 अंतर्गत सड़क के गड्ढे भरने का काम : कोणार्क स्ट्रक्चरल लिमिटेड
प्रभाग ‘एल’, ‘एम/ पूर्व’ व ‘एम /पश्चिम’ : रुपेश कॉर्पोरेशन एण्ड इन्फ्राप्रोजेक्ट
प्रभाग ‘एन’, ‘एस’ व ‘टी’ : ट्रान्स कन्डक्ट इंडिया
एस विभाग के लालबहादूर शास्त्री मार्ग के लिए : एपीआइ सीव्हीलकॉन- बिटकॉन इंडिया इन्फ्रास्ट्रक्चर

Loading Comments