बीएमसी के अधिकारियों के पास खुद के प्राइवेट कर्मचारी!

 Mumbai
बीएमसी के अधिकारियों के पास खुद के प्राइवेट कर्मचारी!

मुंबई महानगर पालिका के कई वार्डों में बीएमसी के अधिकारी अपने पास एक कर्मचारी रखे हैं, जिसको वे बाकायदा महीने में पगार भी देते हैं। इसकी शिकायत अब्दुल अलीम बकर ने बीएमसी के उच्च अधिकारियों से की है। सबसे बड़ी बात तो यह है कि ये सब कर्मचारी कंप्यूटर पर काम करते हैं और विशेष पासवर्ड भी उनके पास रहता है।

खबर के मुताबिक बोरीवली बीएमसी आर सेन्ट्रल विभाग में और दहिसर बीएमसी आर उत्तर विभाग में कई अधिकारी अपने कंप्यूटर पर काम करने के लिए युवक-युवतियों को रखे हैं। बीएमसी के विभाग में जो कम्प्यूटर है जिसपर बीएमसी के अधिकारी काम करते हैं। उन सभी अधिकारियों का अपना अपना पासवर्ड होता है। जिससे वे ही कम्प्यूटर खोल सकते हैं। जिसका पासवर्ड इनके रखे लोगों के पास रहता है। वे लोग ही ई- टेंडर से लेकर बिल बनाने तक का काम करते हैं। इन लोगों की पगार उनके अधिकारी अपने पास से देते हैं। बताया जाता है कि एक जूनियर इंजीनियर की पगार 30 हजार तक होती है तो वह अपने इन कर्मचारियों को कहां से पगार देता है।

बता दें कि 2014 में ई- टेंडरिंग घोटाला हुआ था जिसमें सहायक बीएमसी आयुक्त देवेंद्र जैन सहित लगभग 130 अधिकारी आरोपी बनाये गए थे जिनमें उस समय के आर उत्तर और आर मध्य विभाग के अधिकारी भी शामिल थे। जिसकी अभी जांच चल रही है। इस सम्बन्ध में बीएमसी आर सेन्ट्रल विभाग के सहायक बीएमसी आयुक्त अतुल राव ने कहा कि अधिकारियों के ऊपर काम का बोझ ज्यादा होने के कारण उन्होंने अपने पास काम करने के लिए अलग-अलग से रखे है।

Loading Comments