पानी की समस्या हो दूर, बीएमसी कुंओं को करेगी जीवित

बीएमसी को आशा है कि अगर निधी का सही उपयोग होता है तो मुंबईकरों को पानी के इस पुराने स्रोत से कुछ हद तक पानी की समस्या कम हो सकती है।

SHARE

बीएमसी पानी की कमी को देखते हुए कुओं को साफ़ करने की योजना बना रही है। बीएमसी उन सभी कुओं को साफ़ करेगी जो सरकारी जमीन के साथ-साथ प्राइवेट जमीन पर भी बने होंगे। इस काम के लिए बीएमसी ने 10 लाख रुपए का प्रावधान किया है। बीएमसी को आशा है कि अगर निधी का सही उपयोग होता है तो मुंबईकरों को पानी के इस पुराने स्रोत से कुछ हद तक पानी की समस्या कम हो सकती है।

एनसीपी नगरसेविका ने उठाया मुद्दा 
इस बारे में एनसीपी की नगरसेविका ज्योति खान प्रस्ताव पारित करते हुए कहा कि, मुंबई में कई धोखादायक और गंदे कुएं हैं। अगर इनकी मरम्मत कर इन्हें साफ़ किया जाए तो पानी की समस्या एक हद तक सुलझ सकती है। इस पर बीएमसी कमिश्नर अजोय मेहता ने बताया कि मुंबई के कुंओं को साफ करने और इन्हें फिर से जीवित करने के लिए 10 लाख रुपए का राशि निश्चित की गयी है। अब इस बाबत प्रस्ताव स्थायी समिति की बैठक में पेश की जाएगी।

पानी की समस्या काफी विकट
अगर देखा जाएं तो मुंबई में पानी की समस्या वाकई में काफी जटिल है। दिनों दिन पानी की कटौती का सामना मुंबई के लोग कर रहे हैं। साथ ही मानसून में भी पर्याप्त बारिश नहीं होने के कारण मुंबई को पानी की आपूर्ति करने वाले झील और तालाब भी नहीं भर पाते। इसीलिए अगर कुंओं को फिर से जीवित किया जाता है तो यह अच्छी पहल होगी।

मुंबई में कई सारे ऐसे कुएं हैं जो लगभग मृत अवस्था में पहुंच गये हैं, या फिर उन्हें पाट दिया गया है, या फिर सूखे पड़े हुए हैं। अगर इन्हें फिर से साफ़ कर इनकी मरम्मत की जाए तो इसमें पानी आ सकता है. इनका पानी पीने योग्य नहीं लेकिन कपड़े, घर, गाड़ी, गार्डनिंग के लिए तो कर ही सकते हैं।  

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें