लोअर परेल ब्रिज बंद होने से लोगों को हो रही है अच्छी खासी परेशानी!

IIT Bombay की रिपोर्ट के बाद इस ब्रिज को आज से बंद करने का फैसला लिया गया है।

SHARE

अंधेरी रेलवे स्टेशऩ के पास गोखले ब्रिज गिरने के बाद रेलवे और बीएमसी ने इन घटनाओं के सबक लेते हुए शहर में बाकी ब्रिजों की जांच कराने का फैसला लिया है। इस आदेश के बाद मुंबई में 445 पूलों का स्ट्रकचरल ऑडीट शुरु किया गया। आईआईटी मुंबई , बीएमसी और रेलवे इन पूलों की जांच करेगी। 17 जुलाई 2018 को आईआईटी मुंबई ने अपनी एक रिपोर्ट पेश की , जिसमें लोवर परेल के पूल को तुरंत बंद करने की सलाह दी गई। मंगलवार से इस ब्रिज को बंद कर दिया गया है।

लोगों को हो रही है काफी दिक्कत
ब्रिज को अचानक बंद करने के फैसले को लेकर लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। वर्किंग दिन होने के कारण लोअर स्टेशन के पास काफी भीड़ दिखी। स्टेशन के पास से होकर जानेवाले रास्तों पर लोगों की लंबी लंबी कतारें भी दिखी। समाजसेविका स्वरिता राजेश पाटकर का कहना है की जब इस पूल को मंगलवार से ही बंद कर दिया जाना था तो सोमवार रात से ही यहां पर पुलिस और सुरक्षा अधिकारियों की व्यवस्था होनी चाहिए। इस पुल पर कभी भी एलफिन्स्टन जैसा हादसा हो सकता है जिसे रोकने के लिए पर्याप्त सुरक्षा होना जरुरी है।

97 साल पुराना पुल
लोअर परेल का यह पुल 1921 में बनाया गया था। इसकी लंबाई 62.72 मीटर है और चौड़ाई 23.20 मीटर है। नतीजतन, आईआईटी द्वारा निरीक्षण के दौरान, पुल बकाफी खराब हो गया था। आईआईटी ने अपनी रिपोर्ट में कहा की इस पूल को तुरतं मरम्मत की जरुरत है। जिसके बागद रेलवे ने ये पत्र बीएमसी को भेज दिया है और इसे तुरंत मरम्मत की सलाह दी है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें