Advertisement

मंगलवार को बीएमसी पेश करेगी बजट

मुलभूत सुविधाओ पर बीएमसी बजट का रह सकता है ध्यान

मंगलवार को बीएमसी पेश करेगी बजट
SHARES

मंगलवार को बीएमसी कमिश्नर प्रविण परदेशी अपना पहला बजट पेश करेेंगे।बीएमसी देश की सबसे अमीर नगर निकाय है। 2019-20 के वित्तीय वर्ष में बीएमसी ने 30,692 करोड़ रुपये का बजट पेश किया था। हालांकी इस सा भी बजट में कुछ ज्यादा फेरबदल की उम्मीद नहीं है। बीएमसी इस बार के बजट में ज्याद बदलाव नहीं कर सकती है लेकिन हर बार की तरह इस बार भी मूलभूत सुविधाओं पर बीएमसी के बजट में ज्यादा जोर रह सकता है।  

45 प्रतिशत खर्च

31 दिसंबर, 2019 तक, बीएमसी ने अपने बजट का 45 प्रतिशत खर्च किया है। 2019-20 के लिए बजट अनुमान 30,692 करोड़ रुपये था। इस साल, बजट अनुमान पिछले साल के करीब होने की संभावना है। जिन विभागों के बजटीय प्रावधान में कटौती की संभावना है, वे सड़क और यातायात, ठोस अपशिष्ट प्रबंधन परियोजनाएं (एसडब्ल्यूएम), तूफान जल निकास (एसडब्ल्यूडी), उद्यान, जल आपूर्ति परियोजनाएं (डब्ल्यूएसपी) और अन्य मेगा परियोजनाएं हैं, जिनके लिए कोई कदम नहीं उठाया गया है। 

बजट का आकार कम 
बीएमसी के अनुसार 2019-20 में 1,471 करोड़ रुपये सड़कों के लिए आवंटन, SWD विभाग के लिए 825 करोड़ रुपये,  SWM विभाग के लिए 239 करोड़ रुपयेकोस्टल रोड के लिए 1,600 करोड़ रुपयेपुलों के लिए 550 करोड़ रुपये 201 रुपये थे। हालांकि पिछले दो वर्षों में, BMC द्वारा किए गए खर्च में थोड़ा सुधार हुआ है।  संभावना है कि इस वर्ष बजट का आकार कम करने के प्रयास किए जाएंगे।


पिछले वर्ष की आय में 10% की वृद्धि करके आने वाले वर्षों के लिए संपत्ति कर संग्रह निर्धारित करने का लक्ष्य है। तदनुसार, वर्ष 2019-20 के दौरान 5844.94 करोड़ रुपये की संपत्ति कर की वसूली का लक्ष्य है।जनवरी 2020 तक, बीएमसी संपत्ति कर के लिए केवल 2394.38 करोड़ रुपये ही वसूल सक है। इसलिए कुल लक्ष्य का 50 फीसदी भी बीएमसी के पास जमा नहीं हो पाया है।  

2015-16 का बजट 26,479.15 करोड़ रुपये था। वर्ष 2016-17 का बजट 37,052.15 करोड़ रुपये था।चालू वित्त वर्ष के लिए, 30,692.59 करोड़ रुपये का बजट पेश किया गया था। हालांकि, चालू वित्त वर्ष में संपत्ति कर के साथ-साथ अन्य आय में गिरावट आई है। संकेत हैं कि यह 2020-21 के बजट (मुंबई बीएमसी बजट) को प्रभावित करेगा

यह भी पढ़े- अब मोबाइल से कर सकेंगे पानी के मीटर की रीडिंग

Read this story in मराठी
संबंधित विषय
Advertisement