Advertisement

Exclusive - जब तक आखिरी मजदूर अपने घर तक नही पहुँच जाता तब तक मैं लगा रहूंगा - अभिनेता सोनू सूद


Exclusive - जब तक आखिरी मजदूर अपने  घर तक नही पहुँच जाता तब तक मैं लगा रहूंगा  - अभिनेता सोनू सूद
SHARES
Advertisement

बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद कोरोना वायरस (Coronvirus) महामारी के दौरान लगातार लोगों की मदद कर रहे हैं। वह मुंबई में फंसे और घर जाने का इंतज़ार कर रहे प्रवासी मजदूरों को लगातार घर भेज रहे हैं। इसके लिए उन्होंने कई बसे चलावाई हैं।  मजदूरों को घर भेजने के लिए वह दिन रात लगे हुए है। सोनू सूद ने अभी तक  कई लोगों को उनके गांव पहुँचाया है। सोनू ने राज्‍य सरकारों से परमिशन लेकर बसों का इंतजाम किया और अपनी टीम के साथ मिलकर प्रवासियों को घर भिजवाने का काम शुरू किया जो अभी भी जारी है।


मुंबई लाइव ने भी सोनू सूद से उनके द्वारा किये जा रहे है इस सराहनीय कार्य के बारे में बात की


आप लगातार लोगों की मदद कर रहे है,कब लगा आपको की मजदूरों की मदद करनी चाहिए?

मुझे लगता है जो मैंने किया है वो मेरी ड्यूटी थी, मुझे बड़ी तकलीफ होती थी जब मैं मजदूरों को चलते हुए देखता था अपने परिवार वालो के साथ , अपने बच्चों के साथ,तो मुझे लगा कि हम उन लोगो को जिन्होंने हमारी सड़के बनाई , हमारे घर बनाये,हमारे आफिस बनाये, हम लोग उन्हें ऐसा नही छोड़ सकते,हमे आगे बढ़ना होगा और उनकी मदद करनी होगी, इसलिए मैंने सोचा कि क्यों ना मैं बात करूं, मैंने सरकारों से बात की, मजदूरों से बात की और फिर उन लोगो के लिए ट्रेवलिंग की व्यवस्था की ताकि वह अपने घर जा सके।


ग्राउंड लेवल पर काम करने का आईडिया कैसे आया?

मेरा मानना है कि आप सिर्फ सोशल मीडिया पर एक मैसेज नही दे सकते कि आप उनके लिए बुरा फील करते है, कुछ न कुछ एक्शन करना जरूरी है, मैं ये नही कहता कि सबको बाहर आना जरूरी है या सब बाहर आये,लेकिन शायद ईश्वर ने मेरे हाथ मे औजार दिया कि मैं आगे बढ़कर लोगो की मदद कर सकू, मैं खुशकिस्मत मानता हूं कि मैं ये कर पाया,मैं हमेशा मानता हूं कि मजदूरों को इस समय सबसे ज्यादा जरूरत है विश्वास की, ट्रस्ट की कि उनके साथ भी कोई न कोई खड़ा हुआ है, इसलिए मैं बाहर आया और मैं सबसे कहना चाहूंगा कि इन लोगो के लिए कुछ करें और कुछ सोचे, ये सबसे ज्यादा जरूरी है


इस काम मे कौन कौन आपका साथ दे रहा है?

मेरे बहुत सारे दोस्त मेरे साथ जुड़े हुए है,मेरी बहुत अच्छी दोस्त है निक्की गोयल जो बचपन से मेरे साथ है वो मेरे साथ इस काम मे जुड़ी है, मेरा पूरा परिवार इस काम मे मेरे साथ है और मेरी मदद कर रहा है,मेरे दोस्त और चार्टेड अकॉउंटेड पंकज और उनकी टीम भी इस काम मे मेरा साथ दे रही है, मुझे लगता है कि अकेले ये जंग नही जीती जा सकती है , सबको एक साथ लेकर जो भी जरूरतमंद है उन तक संदेश पहुचाना है कि हम कैसे उनको उनके घरों तक पहुँचा सकते है


आप इतने लोगो के बीच जाते है,  आप अपनी सुरक्षा कैसे रखते है?

अब आप रोड पर जातो हो तो आपको सेफ्टी प्रिकॉसन लेना पड़ता है,सब लोगो के बीच मे घूमते है तो थोड़ा सा ध्यान रखना जरूरी है, मैं रखता हूं, मैं पूरी सेफ्टी किट पहनता हू, हर सावधानियां रखता हूं,लेकिन फिर भी मुझे लगता है कि बहुत ध्यान देना जरूरी है और एक मैसेज देना जरूरी है कि बहुत बार जब मैं लोगो को बसों में छोड़ने जाता हूं तो लोग कभी कभी बिना मास्क के होते है, उनको बोलता हूं मास्क लगाकर रखिये, खाने को सैनिटाईज कीजिये, हाथ साफ रखिये, इस तरह के छोटे छोटे मैसेज से ही हम नॉर्मल लाइफ में वापस आ सकते है।


लोग इतना प्यार दे रहे है आपको, लोगो ने तो अब आपको अपना आदर्श भी मानना शुरू कर दिया है?

फिल्मो में मैंने विलेन्स के रोल भी बहुत किये ,हीरो के रोल्स भी बहुत किये, लेकिन आज लोगो ने जो मुझे सम्मान दिया है, प्यार दिया है उनको शब्दों में बयां नही कर सकता,बस इतना ही कहना चाहता हु की जो लोगो की उम्मीदें है मुझसे उसे पूरा करने की कोशिश करता रहूंगा और मुझे उम्मीद है कि जब तक आखिरी प्रवासी अपने  घर नही  पहुँच जाता तब तक मैं लगा ही रहूंगा।


हिंदुस्तान के लोगो से क्या कहना चाहेंगे?

मैं हिंदुस्तान के लोगों से यही कहना चाहूंगा कि ये जो विपदा आई है पूरी दुनिया ने देखी है और बहुत सारे देश है जो अभी तक इससे बाहर निकले नही है, पर हम भी निकल सकते है, हिन्दुस्तान के लोगों ने हमेशा दिखाया है कि हम कितने मेहनती है और सबसे अलग रहे है तो कोरोना बहुत बड़ी चीज नही है जिसको हम नही पछाड़ सकते, लेकिन एक यूनिटी चाहिए एक विश्वास चाहिये एक रीस्पांसबलिटी चाहिए, और हम जल्द से जल्द इस विपदा से भी बाहर निकलेंगे।




 

संबंधित विषय