Advertisement

रानीबाग में लाए गये 2 बंगाल टाइगर

इसमें से मादा बाघ का नाम करिश्मा तो नर बाघ का नाम शक्ति रखा गया है। करिश्मा का जन्म जुलाई 2014 में हुआ था जबकि शक्ति का जन्म नवंबर 2016 में हुआ था।

रानीबाग में लाए गये 2 बंगाल टाइगर
SHARES


भायखला (byculla) में स्थित वीर माता जीजाबाई भोसले उद्यान (Veer Mata Jijabai Bhosale Garden) यानी रानीबाग में दो बंगाल टाइगरों (bengal tiger)को लाया गया है। इन्हें औरंगाबाद के सिद्धार्थ गार्डन और चिड़ियाघर से खरीदे गए हैं। इसमें से मादा बाघ का नाम करिश्मा तो नर बाघ का नाम शक्ति रखा गया है। करिश्मा का जन्म जुलाई 2014 में हुआ था जबकि शक्ति का जन्म नवंबर 2016 में हुआ था। कुछ दिन बाद इन्हें आम लोगों के सामने सार्वजनिक किया जायेगा।

रानीबाग में इस समय काफी कुछ बदला जा रहा है, यहाँ कई सारे जानवरों को बाहर से लाया गया है और कई सारे जानवरों को लाया भी जाएगा। यही नहीं 26 जनवरी के दिन यानी गणतंत्र दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने रानीबाग में 13-मीटर लंबे एवियरी का उद्घाटन किया, यह भारत को अपनी तरह का पहला एवियरी होगा जिसमें तरह-तरह प्रजाति के पक्षी होंगे। रानीबाग में इस समय तेंदुए, लोमड़ियों, हाइना, कछुओं सहित अन्य जानवरों के लिए बाड़े बनाए गये हैं।

एक रिपोर्ट के अनुसार, बीएमसी रानीबाग के लिए इंटरप्रिटेशन सेंटर में एक नई जैव विविधता सुविधा की योजना बना रही है। इस परियोजना पर लगभग 7 करोड़ रुपये की लागत लगने का अनुमान है।  यह चिड़ियाघर न केवल शहर के केंद्र में स्थित है, बल्कि इसमें एक ग्रेड II हेरिटेज भी घोषित किया गया है, जो  पर्यटकों के साथ-साथ स्थानीय लोगों के लिए भी एक लोकप्रिय स्थान बनाता है।

इस बारे में एक अधिकारी ने कहा, " हमारी योजना यहां एक वीडियो दीवार, एक शिक्षा गैलरी के साथ-साथ शहर की समृद्ध जैव विविधता के बारे में जानकारी देने की योजनाएं हैं। 

ऐसा कहा जाता है कि अधिकारी 11 वीं विश्व जंगल कांग्रेस में एक प्रदर्शनी का प्रदर्शन करेंगे, जो 19 से 27 मार्च के बीच जयपुर में आयोजित की जाएगी। इस कार्यक्रम में प्रदर्शन के बाद, प्रदर्शनियों को व्याख्या केंद्र में नियोजित किया जाएगा।

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
Advertisement