Advertisement

क्या माउथवॉश से रोका जा सकता है कोरोना का संक्रमण?

आए दिन कोरोना वायरस से बचाव के लिए कई तरह के उपाय बताए जा रहे हैं। एक नई रिपोर्ट में शोधकर्ताओं का कहना है कि माउथवॉश कर के कोरोना संक्रमण को गंभीर होने से रोका जा सकता है।

क्या माउथवॉश से रोका जा सकता है कोरोना का संक्रमण?
SHARES
Advertisement

देश में लागू लॉकडाउन (Lockdown) का चौथा चरण जल्द ही समाप्त होने वाला है। पर हैरानी की बात यह है कि अभी तक देश को कोरोना (Coronavirus) से आजादी नहीं मिली है। 2 महीने पूरे हो जाने के बाद भी लगातार कोरोना के मामले में बढ़ोतरी देखी गई है। इस बीमारी का पुख्ता इलाज खोजने के लिए देश दुनिया के तमाम बड़े बड़े वैज्ञानिक लगे हुए हैं, पर अभी तक इसमें किसी को भी बड़ी सफलता नहीं मिली है। हाल ही में एक खबर सामने आई की माउथवॉश के द्वारा कोरोना के संक्रमण को कुछ हद तक रोका जा सकता है, तो चलिए आज हम आपको इस आर्टिकल में इस खबर की सच्चाई से अवगत कराएंगे।

यह तो स्पष्ट हो चुका है कि कोरोना हमारे नाक, आंख, मुंह आदि के रास्ते हमारे शरीर में प्रवेश कर सकता है और फिर गले से होकर यह हमारे फेफड़ों तक पहुंच जाता है। फेफड़ों में इसका संक्रमण फैलने के बाद सांस लेने में परेशानी बढ़ जाती है । आए दिन कोरोना वायरस से बचाव के लिए कई तरह के उपाय बताए जा रहे हैं। एक नई रिपोर्ट में शोधकर्ताओं का कहना है कि माउथवॉश कर के कोरोना संक्रमण को गंभीर होने से रोका जा सकता है। कहा जा रहा है कि संक्रमण फैलने से पहले ही माउथवॉश के दौरान कोरोना वायरस नष्ट हो सकता है। 

इस तरह से माउथवॉश करता है काम

  • कोरोना वायरस के बाहरी हिस्से पर एक फैट की लेयर होती है, जिसे कुछ केमिकल्स यानी रसायनों द्वारा नष्ट किया जा सकता है।
  • माउथवॉश की मदद से वायरस की बाहरी लेयर नष्ट की जा सकती है और मुंह और गले में वायरस रेप्लिकेशन नहीं कर सकता है यानी कि अपनी संख्या नहीं बढ़ा सकता है। 
  • टेस्ट ट्यूब प्रयोग और सीमित प्रयोग में पता चला है कि माउथवॉश में वायरसों को खत्म करने वाले रसायन पाए जाते हैं, जो लिपिड्स को टारगेट करते हैं।
  • वायरस के बाहरी परत में ऐसे ही लिपिड्स पाए जाते हैं, जिन्हें माउथवॉश के जरिए नष्ट किया जा सकता है।
  • हालांकि अबतक इस बात के पुख्ता प्रमाण नहीं है कि माउथवॉश कोरोना वायरस की लेयर पर भी असर करेंगे या नहीं।
संबंधित विषय
Advertisement