SHARE

रेलवे मंत्रालय द्वारा जारी किये गए गए करीब 1 लाख पदों की परीक्षाओं में देरी हो सकती है। रेलवे के अनुसार इन पदों के लिए लगभग 2.37 करोड़ लोगों ने आवेदन भेजा है। इतनी बड़ी संख्या में आये आवेदनों को जांचने में रेलवे कर्मचारियों के पसीने छूट रहे हैं। इनके जांच कर परीक्षार्थियों को एग्जाम का प्रवेश पत्र भेजना रेलवे के लिए किसी चुनौती से कम नहीं है और इसमें समय भी लगेगा। इसीलिए परीक्षा आयोजन हो सकती है।


यह भी पढ़ें: Railway Recruitment 2018: 90 हजार सीट के लिए 2.37 करोड़ उम्मीदवार

 

आवेदन पत्र बने सिरदर्द  

रेलवे से जुड़े एक अधिकारी के मुताबिक इसी मई महीने में प्रवेश पत्र भेजने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। अधिकारी के अनुसार एक पद के लिए लगभग 237 उम्म्मीद्वारों की दावेदारी है, इतनी बड़ी संख्या में आवेदन आने से रेलवे सकते में है। सभी आवेदनों की जांचना और फिर गलत आवेदनों को छांटना इसके लिए रेल कर्मियों को भारी मशक्कत करनी पड़ रही है।  


यह भी पढ़ें: बेरोजगारों के लिए खुशखबरी: रेलवे भर्ती के लिए बढ़ाई गयी उम्मीदवारों की उम्र सीमा


मई में भेजा जाएगा प्रवेश पत्र?

अधिकारी ने आगे बताया कि अभ्यर्थियों को प्रवेश पत्र कब तक वितरण किए जाएंगे और परीक्षा कब तक आयोजित की जाएगी। इस बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता है लेकिन मई तक कार्य शुरू कर दिया जायेगा। परीक्षा कराने, फिजिकल-मेडिकल टेस्ट आदि पूरा कर नियुक्ति प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी, लेकिन मौजूदा स्थिति को देखते हुए माना जा रहा है कि परीक्षा समय पर आयोजित नहीं हो सकेंगी।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें